संघ लोक सेवा आयोग पर निबंध (UPSC Essay In Hindi)

आज हम संघ लोक सेवा आयोग पर निबंध (Essay On UPSC In Hindi) लिखेंगे। संघ लोक सेवा आयोग पर लिखा यह निबंध बच्चो (kids) और class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए लिखा गया है।

संघ लोक सेवा आयोग पर लिखा हुआ यह निबंध (Essay On UPSC In Hindi) आप अपने स्कूल या फिर कॉलेज प्रोजेक्ट के लिए इस्तेमाल कर सकते है। आपको हमारे इस वेबसाइट पर और भी कही विषयो पर हिंदी में निबंध मिलेंगे, जिन्हे आप पढ़ सकते है।


संघ लोक सेवा आयोग पर निबंध (UPSC Essay In Hindi)


संघ लोक सेवा आयोग के बारे में आप सब ने तो लगभग सुना ही होगा। लेकिन यहां कई लोग ऐसे भी हैं जिन्हें इसके बारे में ज्यादा जानकारी हासिल नहीं है। वहीं कई लोग ऐसे हैं जो UPSC की परीक्षा देकर IAS बनना चाहते हैं।

देश में सरकारी नौकरी के लिए भी UPSC परीक्षाओं का आयोजन होता है। UPSC की परीक्षा काफी मुश्किल होती है, इसीलिए इस परीक्षा को पास करने वाले अभ्यार्थी कड़ी मेहनत करते हैं। इसीलिए आज इस लेख में UPSC से जुड़ी हर छोटी बड़ी जानकारियां हम आप तक पहुंचाने वाले हैं।

UPSC यानी यूनियन पब्लिक सर्विस कमिशन, यह परीक्षा पास करने के लिए सालों साल युवा अपने आंखों में सपने सजाए कड़ी परिश्रम और लगन के साथ तैयारी में जुटे रहते हैं। कई युवा एक नहीं बल्कि दो या तीन परीक्षाओं के बाद इस परीक्षा में सफल हो पाते हैं और तब जाकर एक प्रतिष्ठित नौकरी पाते हैं।

आज लगभग प्रत्येक युवाओं की आंखों में संघ लोक सेवा के सबसे प्रतिष्ठित नौकरी पाने का सपना होता है। यह भारतीय संविधान द्वारा स्थापित एक ऐसा संवैधानिक निकाय है, जो भारत सरकार के लोक सेवा पदाधिकारियों की नियुक्ति के लिए परीक्षाओं का संचालन करता है।

UPSC क्या है?

UPSC को हिंदी में संघ लोक सेवा कहा जाता है। UPSC भारत की प्रमुख केंद्रीय भर्ती एजेंसियों में से एक है। UPSC भारतीय सेवाओं और केंद्रीय सेवाओं के ग्रुप ए और ग्रुप बी के लिए नियुक्ति करता है और कई तरह की परीक्षाओं का आयोजन भी करता है।

UPSC के द्वारा ही देश के सबसे प्रतिष्ठित सेवा यानी कि भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS), भारतीय पुलिस सेवा (IPS) और भारतीय राजस्व सेवा (IRS) पद पर नियुक्ति होती है। इसके अलावा भी UPSC की परीक्षा देकर सरकारी नौकरियां प्राप्त होती है।

UPSC की स्थापना

1 अक्टूबर 1926 मैं सबसे पहला पब्लिक सर्विस कमीशन स्थापित किया गया था। आजादी के बाद संवैधानिक प्रावधानों के अंतर्गत 26 अक्टूबर 1950 को लोक आयोग की स्थापना की गई। बता दूं कि भारतीय संविधान के अनुच्छेद 315 संघ और राज्यों के लिए लोक सेवा आयोग से जुड़े हुए हैं और वहीं दूसरी ओर अनुच्छेद 316 में सदस्यों के कार्यालय की नियुक्ति और कार्यकाल से संबंधित बातें का जिक्र किया गया है।

संघ लोक सेवा आयोग की स्थापना भी भारतीय संविधान के अनुच्छेद 315 के अंतर्गत ही हुई है। जानकारी के लिए बता दूं कि भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन यानि आजादी के दौरान राष्ट्रीय वादियों की सबसे बड़ी मांग यह थी कि, लोक सेवा आयोग में भर्ती के लिए विदेश जाना ना पड़े।

क्योंकि उस समय यह परीक्षा इंग्लैंड में हुआ करती थी और उसी के बाद उनकी मांग पूरी हुई और प्रथम लोक सेवा आयोग की स्थापना 1926 में हुई। शुरू शुरू में इसका नाम लोक सेवा आयोग था, जिसका नाम बाद में बदल कर संघ लोक सेवा आयोग कर दिया गया था।

UPSC में कितने सदस्य होते हैं?

सबसे महत्वपूर्ण बात की आखिर UPSC में कितने सदस्य होते हैं और इसका चुनाव किस तरह किया जाता है। तो बता दूं कि UPSC में एक चेयरमैन और कुल 10 सदस्य होते हैं और उनका कार्यकाल 6 साल या तो जब तक उनकी आयु 65 वर्ष नही हो जाती है तब तक कायम रहती हैं।

UPSC के सदस्यों को राष्ट्रपति द्वारा चयन किया जाता है और ट्रेन किए गए कोई भी सदस्य अपने कार्यकाल के बीच अपने पद से राष्ट्रपति को इस्तीफा नहीं दे सकता है। UPSC के सदस्य होने के लिए यह जरूरी है कि वह कम से कम 10 साल तक केंद्रीय राज्य सेवा में कार्य कर चुका हो। या तो फिर सिविल सेवा के पद पर कार्य कर चुका हो।

UPSC द्वारा आयोजित होने वाली परीक्षाएं

UPSC सरकारी प्रतिष्ठित नौकरी के लिए परीक्षा का आयोजन करता है, जिसमें से कुछ प्रतिष्ठित नौकरियां इस तरह है

  • भारतीय प्रशासनिक सेवा (IAS)
  • भारतीय पुलिस सेवा (IPS)
  • भारतीय राजस्व सेवा (IRS)
  • भारतीय इंजीनियरिंग सेवा (IES)
  • राष्ट्रीय रक्षा अकैडमी परीक्षा (NDA)
  • नौसेना अकैडमी परीक्षा (NA)
  • संयुक्त चिकित्सा सेवा परीक्षा (CMS)
  • भारतीय वन सेवा परीक्षा (IFS)
  • केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (CAPF)

इत्यादि परीक्षाएं UPSC के आयोजन में शामिल है। इसके अलावा भी कई ऐसे परीक्षाएं हैं जिसे UPSC आयोजीत करता है।

कैसे होता है UPSC में चयन?

UPSC द्वारा आयोजित होने वाली सिविल सेवा परीक्षा में अभ्यार्थियों को कई चरणों की चयन प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है, तब जाकर व कहीं प्रतिष्ठित नौकरी पाते हैं। बता दूं कि अभ्यर्थियों को सबसे पहले प्रीलिम्स परीक्षा में शामिल होना पड़ता है।

जिसमें अभ्यार्थियों से ऑब्जेक्टिव प्रश्न पूछे जाते हैं। इस परीक्षा की तैयारी के लिए अभ्यार्थी जनरल नॉलेज से संबंधित सभी पुस्तकों का अध्ययन करते हैं। जिसके बाद यदि अभ्यार्थी प्रीलिम्स परीक्षा में पास हो जाते हैं, तो ही उन्हें UPSC की परीक्षा में बैठने की अनुमति मिलती है।

परीक्षार्थियों को ऑब्जेक्टिव प्रश्न, निबंध, एप्टिट्यूड, सेल्फ डिसीजन इत्यादि जैसे प्रश्नों को हल करना पड़ता है। इसके लिए अभ्यर्थियों को कड़ी मेहनत और लगन के साथ इस परीक्षा की तैयारी करनी होती है। इस परीक्षा के लिए अभ्यार्थियों को इतिहास, सामान्य ज्ञान, राजनीति, भूगोल तथा अन्य विषयों का ज्ञान होना अनिवार्य होता है।

यदि परीक्षार्थी परीक्षा में सफल हो जाते हैं, तब उन्हें साक्षात्कार यानी कि इंटरव्यू में बैठने की अनुमति मिलती है। सबसे मुश्किल कार्य इंटरव्यू में सफल होना होता है, क्योंकि इसमें आपकी बुद्धि क्षमता से लेकर आपके एटीट्यूड और बोलने चलने के तरीके के आधार पर ही आपको अंक दिए जाते हैं।

और यदि आप इन चीजों में सफल हो जाते हैं, तभी आप एक प्रतिष्ठित नौकरी पाने के लिए सक्षम होंगे। बता दें कि UPSC की परीक्षा देश की सबसे कठिन परीक्षाओं में से एक है। इसके लिए अभ्यार्थी अपनी जी जान लगा देते हैं। वह हर वक्त हर समय सिर्फ किताबों में ही लगे रहते हैं। इस परीक्षा को पास करने के लिए उम्मीदवारों को कड़े परिश्रम के अलावा सही स्ट्रेट्जि की आवश्यकता होती है।

निष्कर्ष

अब आप यदि UPSC परीक्षा की तैयारी करना चाहते हैं, तो आप बे झिझक इस परीक्षा की तैयारी कर सकते हैं। क्योंकि देश की सबसे प्रतिष्ठित नौकरी ऐसी परीक्षा के द्वारा आप को मिल सकती हैं।

इस परीक्षा से संबंधित किसी भी जानकारी के लिए आप इसकी आधिकारिक वेबसाइट पर जा सकते हैं। वही आपको UPSC से संबंधित सभी जानकारी प्राप्त हो जाएगी। UPSC हर साल देश के सबसे प्रतिष्ठित नौकरी के लिए परीक्षा का आयोजन करता है और इस परीक्षा में बैठने के लिए लाखों अभ्यार्थी तैयारी करते हैं।


तो यह था संघ लोक सेवा आयोग पर निबंध, आशा करता हूं कि संघ लोक सेवा आयोग पर हिंदी में लिखा निबंध (Hindi Essay On UPSC ) आपको पसंद आया होगा। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा है, तो इस लेख को सभी के साथ शेयर करे।

Sharing is caring!

Leave a Comment