देश प्रेम और देशभक्ति पर निबंध (Patriotism Essay In Hindi)

आज हम देशभक्ति पर निबंध (Essay On Patriotism In Hindi) लिखेंगे। देशभक्ति पर लिखा यह निबंध बच्चो (kids) और class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए लिखा गया है।

देशभक्ति पर लिखा हुआ यह निबंध (Essay On Patriotism In Hindi) आप अपने स्कूल या फिर कॉलेज प्रोजेक्ट के लिए इस्तेमाल कर सकते है। आपको हमारे इस वेबसाइट पर और भी कही विषयो पर हिंदी में निबंध मिलेंगे, जिन्हे आप पढ़ सकते है।


देश प्रेम और देशभक्ति पर निबंध (Patriotism Essay In Hindi)


प्रस्तावना

देशभक्ति का अर्थ है देश के प्रति प्रेम, भक्ति और निष्ठा। जो व्यक्ति आजीवन देश से प्रेम करता है उसे देशभक्त कहते है। एक सच्चे देशभक्त को देश पर अभिमान होता है और कभी भी देश के लिए मर मिटने को तैयार रहता है।

इस भावना को देश भक्ति कहते है। जिस स्थान, जगह और देश में मनुष्य निवास करता है, उससे मनुष्य को लगाव हो जाता है। हम उस देश के प्रति स्वंग जिम्मेदार बन जाते है। जो इंसान देश से प्यार नहीं करता, उसका कोई ईमान नहीं होता है और ना ही उनमे जज़्बात होते है।

लोगो को हमेशा अपने मातृभूमि का सम्मान करना चाहिए। जिस देश ने उन्हें सब कुछ दिया, उसका ऋण सारी जिन्दगी वह उतार नहीं सकते है। देश के सिपाही हमेशा अपने देश की और देशवासियों की रक्षा करते है। वह आजीवन अपने देश की रक्षा करते है और ज़रूरत पड़ने पर अपनी जिन्दगी कुर्बान कर देते है।

जो सच्चे देशभक्त होते है वह अपने प्राणो की बलि देने में हिचकिचाते नहीं है। जो व्यक्ति अपने बारें में नहीं, हर हाल में देश के बारें में सोचें उसे असली देशभक्त कहा जाता है। देश के सभी सुरक्षा दल अपने मातृभूमि के प्रति अपने कर्त्तव्य को निभाते है।

देश की सीमा पर तैनात जांबाज़ सिपाही देशभक्ति का जीता जागता उदाहरण है। वह अपने परिवार को छोड़कर अपनी मातृभूमि के लिए जान देने में ज़रा सा भी हिचकते नहीं है। वह देश पर बुरी नज़र डालने वाले आंतकवादियों और घुसपैठियों से हमारी हमेशा रक्षा करते है।

ऐसे कुछ खतरनाक और हिंसक मानसिकता के लोग होते है, जो देशभक्ति का दिखावा करते है। असल में वह अपने देश को लूटकर और अशांति फैलाकर देश का अपमान करते है।  ऐसे लोगो को गद्दार कहा जाता है। मातृभूमि के प्रति समर्पण, रक्षा और उनका सम्मान करना देशभक्ति कहलाता है। एक सच्चा देशभक्त अपने कर्त्तव्य से कभी पीछे नहीं हटता है।

देशभक्ति व्यक्त करने के कुछ तरीके

एक आम आदमी भी कुछ आवश्यक तरीको द्वारा देश प्रेम व्यक्त कर सकता है। हर व्यक्ति सिपाही नहीं बन सकता है, मगर वह भी कुछ कार्यो और जिम्मेदारियां निभाकर देश भक्ति दिखा सकता है।

हम अपने आसपास के इलाको को साफ़ रख सकते है। अपने शहर को साफ़ रखने के लिए लोगो को जागरूक कर सकते है कि वह यहां वहां कूड़ा कचरा ना फेंके। सभी लोग अपने नगरों को साफ़ रखेंगे तो बीमारियां कम होगी और देश भी सुरक्षित रहेगा।

लोगो को सार्वजनिक स्थलों को साफ़ सुथरा रखना चाहिए। कुछ मनचले लोग कुछ भी लिखकर सार्वजनिक स्थलों को गन्दा करते है, जो गलत है। हमे उन शहीदों का हमेशा सम्मान करना चाहिए जिन्होंने अपने देश को बचाने के लिए अपनी जान दे दी। लोगो को जाति, धर्म के आधार पर भेदभाव नहीं करना चाहिए। भारत में कई भाषाएं बोलने वाले और धर्मो को मानने वाले लोग रहते है। सबको मिल जुलकर एक साथ रहना चाहिए।

देशभक्ति की भावना में कमी

आजकल के युवाओ में देशभक्ति की भावना की कमी देखी जा सकती है। कुछ स्वार्थी लोग है, जो जिस देश में रहते है उसी की बुराई करते है। आजकल लोगो को इतने व्यस्त जीवन में सिर्फ अपना स्वार्थ नज़र आता है, वह देश के विषय में सोचते नहीं।

प्रत्येक व्यक्ति अपनी उन्नति करने में व्यस्त है, उन्हें अपने जीवन में सफलता चाहिए। हर इंसान ज़िन्दगी में सिर्फ पैसे कमाने के पीछे दौड़ रहा है। ऐसे में देश के बारे में उसके पास सोचने का समय नहीं है। हर एक इंसान में देशभक्ति के गुण होना आवश्यक है। एक सफल राष्ट्र के निर्माण के लिए देशभक्ति के गुण होना अत्यंत ज़रूरी है।

इनकम टैक्स देना है ज़रूरी

लोगो को इनकम टैक्स ठीक से चुकाना चाहिए। देश में जमा इस कर से सड़के, गाँव और शहरों का निर्माण होता है। देश में सभी रास्ते, रेल मार्ग, बस इत्यादि सुविधा के लिए कर की आवश्यकता होती है। सच्चाई से सभी नागरिको को टैक्स भरना चाहिए। ऐसा करने से हम एक सच्चे देशवासी होने का कर्त्तव्य निभा सकते है।

देश द्रोह के कार्यो पर अंकुश लगाने की आवश्यकता

गैर कानूनी ढंग से लोगो के पैसो का हेर फेर करना और गबन करना, देशद्रोह कहलाता है। इसे अंग्रेजी में मनी लॉन्डरिंग कहते है। बहुत सारे गलत लोग अपने काले धन को विदेशो के बैंक में जमा रखते है। ऐसे वे इसलिए करते है क्योंकि वह गैर कानूनी तरीके से पैसा कमाते है।

इस तरह के देशद्रोही टैक्स नहीं चुकाते है। इन लोगो को पकड़कर सजा देना आवश्यक है। कुछ लोग पैसो की लालच में गलत लोगो को अपने घर पर बिना जाने पनाह देते है। ऐसे गलत लोग आंतकवाद जैसे निंदनीय अपराधों को अंजाम देते है। यह देशद्रोह कहलाता है।

बच्चो में देशभक्ति के जज़्बात को भरना है आवश्यक

बच्चो को बचपन से ही देश की एहमियत के बारे में समझाना ज़रूरी है। उन्हें स्वतंत्रता आंदोलनों के बारे में बताना चाहिए। ब्रिटिश शासनकाल में कैसे सभी देशभक्तो ने एक साथ लड़ाई की और देश को आज़ादी दिलवाई। विद्यालय और सभी शिक्षा संस्थानों में विद्यार्थियों को देश प्रेम के भावनाओ से अवगत कराना ज़रूरी है।

देश के प्रति प्यार और सम्मान से बढ़कर जीवन में और कुछ नहीं है। पंद्रह अगस्त और छब्बीस जनवरी के महत्व को समझाने के लिए विभिन्न कार्यक्रम आयोजित किये जाते है। विद्यालय में बच्चो को महात्मा गाँधी, भगत सिंह, नेताजी, चंद्र शेखर आज़ाद के बारें में पढ़ाना ज़रूरी है। यह समझाना ज़रूरी है की अगर हम आज स्वतंत्र रूप से जी रहे है, तो इसका श्रेय इन महान पुरुषो को जाता है। इस देश और इन देश भक्तो का सम्मान हमे सदैव करना चाहिए ।

स्कूलों में देशभक्ति से सम्बंधित कहानियां, कविता इत्यादि पाठ्यक्रम में होना चाहिए। विद्यार्थी इन सभी के बारें में पढ़ते है और देश भक्ति के भाव को समझते है।

शहीदों का सम्मान

हमे उन देशभक्तो का सम्मान करना चाहिए जो देश की रक्षा के लिए प्राणो की आहुति दे देते है। हमे उन्हें कभी नहीं भूलना चाहिए। सरकार को शहीदों के परिवार का हमेशा ध्यान रखना चाहिए।

शहीदों के पत्नियों को रोजगार के अवसर दिए जाते है और पेंशन दिया जाना चाहिए। उनके बच्चो को हर तरह की सुविधा दी जानी चाहिए। जो नागरिक या सिपाही या आम आदमी देश के हित के लिए कार्य करते है, सरकार को उन्हें सम्मान देना चाहिए।

देश के एकता का प्रतीक यानी तिरंगे का सम्मान

हमें हमारे देश के तिरंगे का सम्मान हमेशा करना चाहिए। देश की युवा पीढ़ी और बच्चो को भी दिल से अपने देश के तिरंगे का सम्मान करना सीखाना चाहिए।

राष्ट्र गान का सम्मान

देशवासियों को अपने राष्ट्र गान जन गण मन का सम्मान करना चाहिए। ऐसा कई परिस्थितियों में देखा गया है कि लोग राष्ट्र गान के समय खड़े नहीं होते है, यह अपमानजनक है। एक सच्चा देशभक्त ना सिर्फ देश का सम्मान करता है बल्कि अपने देश से जुड़े हर एक चीज़ का मान रखता है।

देश को मज़बूत बनाने के लिए कुरीतियों पर अंकुश

देश को मज़बूत, अखंड और सशक्त बनाने के लिए समाजिक कुरीतियों को मिटाना ज़रूरी है। हालांकि पहले से अधिक लोग जागरूक हुए है। अभी भी बहुत जगहों पर दहेज़ प्रथा, बाल विवाह, बाल मज़दूरी जैसे अपराध हो रहे है। इस पर रोक लगाने के लिए कड़ी सजा का प्रावधान होना चाहिए। राजनीति में पीढ़ीगत भ्रष्टाचार को मिटाना भी ज़रूरी है।

देश को आज़ादी दिलाने में इन देशभक्तो का योगदान

देश को आज़ादी दिलाने में महात्मा गाँधी, चन्द्र शेखर आज़ाद, भगत सिंह, राजगुरु, नेताजी, लाला राजपतराय, बाल गंगाधर तिलक, मंगल पांडेय, अम्बेडकर इत्यादि क्रांतिकारीयो ने योगदान दिया। भगत सिंह ने देश को आज़ाद करवाने के लिए अपनी जान कुर्बान कर दी। वे निडर होकर लड़े और आज भी लोग उन्हें याद करते है।

सुभाष चन्द्र बोस ने देश को स्वतंत्र करने के लिए आज़ाद हिन्द फ़ौज का गठन किया था। उनकी सोच अलग थी। उनकी मज़बूत सोच और इरादे के लिए उन्हें गर्व से देशवासी आज भी स्मरण करते है। बोस जी ने हिन्दू मुस्लिम को एक करने के लिए काफी प्रयत्न किये थे।

राष्ट्र पिता महात्मा गाँधी जी भी देश के लिए सम्पूर्ण रूप से समर्पित थे। वे अहिंसा और सत्य के पुजारी थे। महत्मा गांधी ने नमक आंदोलन और कई आंदोलन किये और ब्रिटिश को देश छोड़कर जाने पर मज़बूर कर दिया था।

ब्रिटिश के अत्याचारों से देशवासियों को स्वतंत्र करने के लिए बाल गंगाधर तिलक ने भी बहुत प्रयास किये। उनके योगदान से भी हम अच्छे तरह से परिचित है। उन्होंने खुद देशवासियों के अधिकार के लिए सरकार से पुरज़ोर मांग की थी।

सरोजिनी नायडू ने भी देशवासियों को अंग्रेज़ो के निरंतर अत्याचारों से मुक्त कराने के लिए कई कार्य किये। इसके लिए उन्हें जेल भी जाना पड़ा था। वह एक सच्ची देशभक्त थी।

सच्चे और झूठे देशभक्त में अंतर

एक सच्चा देशभक्त पूरे निष्ठा के साथ एक देशभक्त होने का फर्ज अदा करता है। देश का साथ हर परिस्थिति में देता है और देश को सुधारने की चेष्टा करता है। एक झूठा देशभक्त सिर्फ देशभक्त होने का नाटक करते है।

ऐसे झूठे देशभक्त अपने स्वार्थ के लिए कुछ भी कर सकते है। वह देशभक्ति का दिखावा अपने फायदे के लिए करते है। ऐसे झूठे लोगो को देशभक्ति से कोई मतलब नहीं होता है।

निष्कर्ष

देशभक्त दिल से अपने देश से प्यार करता है। एक समर्पित देशभक्त देश को बुरी परिस्थितियों से निकालने में मदद करता है। वह हमेशा देश के हित में कार्य करता है। वह अपने देश और देशवासियों के भलाई के विषय में सोचता है। वह देश के निर्माण में पूरा सहयोग देता है और सबको देश प्रेम का सन्देश भी देता है।


इन्हे भी पढ़े :-

तो यह था देशभक्ति पर निबंध, आशा करता हूं कि देश प्रेम और देशभक्ति पर हिंदी में लिखा निबंध (Hindi Essay On Patriotism) आपको पसंद आया होगा। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा है, तो इस लेख को सभी के साथ शेयर करे।

Sharing is caring!