परोपकार पर निबंध (Paropkar Essay In Hindi)

आज के इस लेख में हम परोपकार पर निबंध (Essay On Paropkar In Hindi) लिखेंगे। परोपकार पर लिखा यह निबंध बच्चो (kids) और class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए लिखा गया है।

परोपकार पर लिखा हुआ यह निबंध (Essay On Paropkar In Hindi) आप अपने स्कूल या फिर कॉलेज प्रोजेक्ट के लिए इस्तेमाल कर सकते है। आपको हमारे इस वेबसाइट पर और भी कही विषयो पर हिंदी में निबंध मिलेंगे, जिन्हे आप पढ़ सकते है।


परोपकार पर निबंध (Paropkar Essay In Hindi)


प्रस्तावना 

समाज में परोपकार से बढकर कोई धर्म नहीं होता, यह ऐसा काम है जिसके द्वारा शत्रु भी मित्र बन जाता है।यदि शत्रु पर विपत्ति के समय उपकार किया जाए ,तो वह सच्चा मित्र बन जाता है| विज्ञान ने आज इतनी उन्नति कर ली है कि मरने के बाद भी हमारी नेत्र ज्योति और अन्य कई अंग किसी अन्य व्यक्ति के जीवन को बचाने का काम कर सकते है।

इनका जीवन रहते ही दान कर देना महान उपकार है। परोपकार के द्वारा ईश्वर की समीपता प्राप्त होती है। मानव जीवन में इसका बहुत महत्व होता है। ईश्वर ने प्रकृति की रचना इस तरह से की है कि आज तक परोपकार उसके मूल में ही काम कर रहा है। परोपकार प्रकृति के कण-कण में समाया हुआ है।

जिस तरह से वृक्ष कभी भी अपना फल नहीं खाता, नदी अपना पानी नहीं पीती, सूर्य हमें रोशनी देकर चला जाता है, उसी प्रकार से प्रकृति अपना सर्वस्व हमको दे देती है। वह हमें इतना कुछ देती है लेकिन बदले में हमसे कुछ भी नहीं लेती।

किसी भी व्यक्ति की पहचान परोपकार से की जाती है। जो व्यक्ति परोपकार के लिए अपना सब कुछ त्याग देता है वह अच्छा व्यक्ति होता है। जिस समाज में दूसरों की सहायता करने की भावना जितनी अधिक होगी, वह समाज उतना ही सुखी और समृद्ध होगा। यह भावना मनुष्य का एक स्वाभाविक गुण होता है।

परोपकार का अर्थ

परोपकार दो शब्दों से मिलकर बना है, पर + उपकार। इसका का अर्थ होता है दूसरों का अच्छा करना और दूसरों की सहयता करना। किसी की मदद करना ही परोपकार कहा जाता है।

परोपकार की भावना ही मनुष्यों को पशुओं से अलग करती है, नहीं तो भोजन और नींद तो पशुओं में भी मनुष्य की तरह पाई जाती हैं। अच्छा कर्म करने वालों का न यहां और ना ही परलोक में विनाश होता है।

अच्छा कर्म करने वाला दुर्गति को प्राप्त नहीं होता है। दुसरो की मदद करने वाला सच्चा वही व्यक्ति है, जो प्रतिफल की भावना न रखते हुए मदद करता है। मनुष्य होने के नाते हमारा यह नैतिक कर्तव्य बन जाता है कि हम सब मनुष्यता का परिचय दें। मनुष्य ही मनुष्यता की रक्षा कर सकता है। इस कार्य के लिए कोई दूसरा नहीं आ सकता।

परोपकार का महत्व

जीवन में परोपकार का बहुत महत्व है। समाज में परोपकार से बढकर कोई धर्म नहीं होता। ईश्वर ने प्रकृति की रचना इस तरह से की है कि आज तक परोपकार उसके मूल में ही काम कर रही है।

परोपकार प्रकृति के कण-कण में समाया हुआ है। जिस तरह से वृक्ष कभी भी अपना फल नहीं खाता है, नदी अपना पानी नहीं पीती है, सूर्य हमें रोशनी देकर चला जाता है। परोपकार एक उत्तम आदर्श का प्रतीक है। पर पीड़ा के समान कुछ भी का अधम एवं निष्कृष्ट नहीं है।

भारतीय संस्कृति का मूलाधार व जीवन का आदर्श

जो व्यक्ति परोपकारी होता है उसका जीवन आदर्श माना जाता है। उसका मन हमेशा शांत रहता है। उसे समाज में हमेशा यश और सम्मान मिलता है। भारतीय संस्कृति की भावना का मूलाधार परोपकार है। दया, प्रेम, अनुराग, करुणा, एवं सहानुभूति आदि के मूल में परोपकार की भावना है।

हमारे बहुत से ऐसे महान पुरुष थे, जिन्हें परोपकार की वजह से समाज से यश और सम्मान प्राप्त हुआ था। महात्मा गांधी, सुभाष चंद्र बोस, जवाहरलाल नेहरू तथा लाल बहादुर शास्त्री का नाम बड़े आदर के साथ लिया जाता है। इन महापुरुषों ने मनुष्य जाती की भलाई के लिए अपने घर परिवार का त्याग कर दिया था।

ये सब लोक-कल्याण की वजह से पूजा करने योग्य बन गये हैं।दूसरों का हित चाहने के लिए गाँधी जी ने गोली खायी थी, सुकृत ने जहर पिया था और ईसा मसीह सूली पर चढ़े थे। किसी भी देश या राष्ट्र की उन्नति के लिए परोपकार सबसे बड़ा साधन माना जाता है।

जब कोई दूसरों के लिए आत्म बलिदान देता है, तो वह समाज में अमर हो जाता है। जो व्यक्ति अपने इस जीवन में दूसरे लोगों के जीवन को जीने योग्य बनाता है उसकी उम्र लंबी होती है।

समाज में किसी भी परोपकारी का किसी अमीर व्यक्ति से ज्यादा सम्मान किया जाता है। प्रेम और परोपकार व्यक्ति के लिए एक सिक्के के दो पहलु होते हैं। मनुष्य का सर्वश्रेष्ठ धर्म परोपकार होता है। मनुष्य के पास विकसित दिमाग के साथ-साथ संवेदनशील ह्रदय भी होता है|

मनुष्य दूसरों के दुःख को देखकर दुखी हो जाता है और उसके प्रति सहानुभूति पैदा हो जाती है। वह दूसरों के दुखों को दूर करने की कोशिश करता है, तब वह परोपकारी कहलाता है।

प्रकृति में परोपकार का भावभाव

प्रकृति मानव के हित साधन में निरंतर जुटी हुई है। कुछ सीख हमें प्रकृति से भी लेनी चाहिए, जैसे-परोपकार के लिए वृक्ष फलते – फूलते हैं, सरिताये प्रवाहित है, सूर्य एवं चंद्रमा प्रकाश लुटाकर मानव के रास्ते को आलोकित करते है, बादल पानी बरसा कर वातावरण को हरा-भरा बनाते हैं, जो जीव- जंतुओं को राहत देते हैं।

प्रकृति का कण-कण हमें परोपकार की शिक्षा देता है। नदियाँ परोपकार के लिए बहती है, वृक्ष धूप में रहकर हमें छाया देता है, चन्द्रमा से शीतलता, समुद्र से वर्षा, गायों से दूध, वायु से प्राण शक्ति मिलती है।

परोपकार से लाभ

परोपकारी मानव के हृदय में शांति तथा सुख का निवास होता है। संतों का हृदय नवनीत के समान होता है। उनमे किसी के प्रति द्वेष तथा ईर्ष्या नहीं होती थी। परोपकार के ह्रदय में कटुता की भावना नहीं होती है।

समस्त पृथ्वी ही उनका परिवार होता है। गुरु नानक, शिव, दधीचि, ईसा मसीह आदि ऐसे महान पुरुष अवतरित हुए जिन्होंने परोपकार के निमित्त अपनी जिंदगी कुर्बान कर दि।परोपकार को समाज में अधिक महत्व इसलिए दिया जाता है, क्योंकि इससे मनुष्य की पहचान होती है।

लाखों-करोड़ों लोगों के मरणोपरांत सिर्फ वही मनुष्य समाज में अपने नाम को स्थायी बना पाता है, जो इस जीवन काल को दूसरों के लिए अर्पित कर चुका होता है। इससे अपना भी भला होता है।

जो व्यक्ति दूसरों की सहायता करते हैं, वक्त आने पर वे लोग उनका साथ देते हैं। जब आप दूसरों के लिए कोई कार्य करते हैं तो आपका चरित्र महान बन जाता है।

परोपकार क्यों करना चाहिए?

अगर आपके पास कोई चीज है तो आपको स्वयं को भाग्यशाली समझना चाहिए कि आपके पास वह चीज है। जिसकी आवश्यकता किसी और को भी है और उसे आपसे वह चीज मांगनी पड़ रही है। जिंदगी यदि परोपकार के लिए जाएगी तो आपको कोई भी कमी नहीं रहेगी।

आपकी जो-जो इच्छाएँ हैं, वे सभी पूरी होगी और सिर्फ खुद के लिए जिये तो एक भी इच्छा पूरी नहीं होगी। क्योंकि वह रीति आपको नींद ही नहीं आने देगी।

परोपकार से मन की शांति और आनंद

परोपकार करने से मन और आत्मा को बहुत शांति मिलती है। परोपकार से भाईचारे की भावना और विश्व-बंधुत्व की भावना भी बढती है। मनुष्य को जो सुख का अनुभव गरबों की मदद करने में होता है, वह किसी और काम को करने से नहीं होता है।

जो व्यक्ति दूसरों के सुख के लिए जीते हैं, उनका जीवन प्रसन्नता और सुख से भर जाता है। समाज में परोपकार करने वाले व्यक्ति की ही पहचान होती है। निश्वार्थ भाव से दूसरों के हित के लिए तत्पर रहने वालों का यश दूर-दूर तक फैलता है। पीडि़त को संकट से उबारना नेक कार्य है।

उदास चेहरों पर खुशी लाना सबसे बड़ा धर्म है। किए गए उपकार के बदले अपेक्षा का भाव रखना उपकार की श्रेणी में नहीं आता। व्यक्ति को परोपकारी बनना चाहिए। परोपकारी व्यक्ति की सर्वत्र पूजा होती है। इसके लिए न तो कोई आयु निश्चित हैं न ही तय कक्षाएं।

मानवता का उद्देश्य

मानवता का उद्देश्य यह होना चाहिए कि वह अपने साथ-साथ दूसरों के कल्याण के बारे में भी सोचे। अगर तुम्हारे पास शक्ति है तो उससे कमजोरो का अवलंबन दो। अगर तुम्हारे पास शिक्षा है तो उसे अशिक्षितों में बांटो। जो व्यक्ति दूसरों के दुखों को देखकर दुखी नहीं होता है, वह मनुष्य नहीं होता वह एक पशु के समान होता है। हमारे जीवन में त्याग और बलिदान करने की भी भावना होनी चाहिए।

उपसंहार

परोपकारी मानव किसी बदले की भावना अथवा प्राप्ति की आकांक्षा से किसी के हित में रत नहीं होता। वह इंसानियत के नाते दूसरों की भलाई करता है। “सर्वे भवंतु सुखिनः सर्वे संतु निरामया “ के पीछे भी परोपकार की भावना ही प्रतिफल है।

परोपकार सहानुभूति का पर्याय है। यह सज्जनों की विभूति होती है, परोपकार मानव समाज का आधार होता है। परोपकार के बिना सामाजिक जीवन गति नहीं कर सकता। हर व्यक्ति का धर्म होना चाहिए कि वह एक परोपकारी बने। दूसरों के प्रति अपने कर्तव्य को निभाएं और कभी-भी दूसरों के प्रति हीन भावना ना रखे।


तो यह था परोपकार पर निबंध, आशा करता हूं कि charity पर हिंदी में लिखा निबंध (Hindi Essay On Paropkar) आपको पसंद आया होगा। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा है, तो इस लेख को सभी के साथ शेयर करे।

Sharing is caring!

Leave a Comment