प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निबंध (Narendra Modi Essay In Hindi)

आज के इस लेख में हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निबंध (Essay On Narendra Modi In Hindi) लिखेंगे। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर लिखा यह निबंध बच्चो (kids) और class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए लिखा गया है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर लिखा हुआ यह निबंध (Essay On Narendra Modi In Hindi) आप अपने स्कूल या फिर कॉलेज प्रोजेक्ट के लिए इस्तेमाल कर सकते है। आपको हमारे इस वेबसाइट पर और भी कही विषयो पर हिंदी में निबंध मिलेंगे, जिन्हे आप पढ़ सकते है।


प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निबंध (Narendra Modi Essay In Hindi)


हमारे भारत देश के वर्तमान प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी हैं, जो ना सिर्फ भारत में बल्कि पूरे विश्व में ख्याति प्राप्त राजनेता हैं। इन्होंने विदेशों में जाकर सभी बड़े बड़े देशों से मित्रता स्थापित की ओर “वसुधैव कुटुंबकम्” को अपना लक्ष्य बनाया।

जिससे कई बड़े देश भारत के साथ व्यापारिक संबंध स्थापित करने लगे और कई वस्तुएं आयात और निर्यात होने लगी। अगर भारत के विकास की बात करें तो मोदी जी के प्रधानमंत्री बनने के बाद से यहां पर हर प्रकार से विकास हुआ है।

भारत के सर्वांगीण और तीव्र हो रहे विकास का श्रेय इन्हीं को जाता है, इसीलिए आज हर व्यक्ति के मुंह पर इनका ही नाम होता है और हर कोई इनसे प्रेम करता है। इनका कर्मठ व्यक्तित्व सबके लिए आदर्श है।

इन्होंने गरीब और अमीर सभी को साथ लेकर देश के विकास में भागीदार बनाया है। हम इन्हीं के जीवन, संघर्षों और महान कार्यों के बारे में आपको बताने जा रहे हैं।

नरेंद्र मोदी जी का जन्म और बचपन

इन महान राजनीतिज्ञ का जन्म 17 सितंबर 1950 वडनगर गुजरात में हुआ। इनके पिताजी का नाम दामोदरदास मूलचंद मोदी है। एवम् माताजी का नाम हीराबेन मोदी है। इनके पांच भाई – बहन हैं और उनमें से मोदी जी दूसरे नंबर के संतान हैं।

मोदी जी जब बहुत छोटे थे, तभी से वो अपने पिता जी के साथ उनके चाय बेचने के काम में सहायता किया करते। फिर जब वे कुछ बड़े हुए तो उन्होंने अपने बड़े भैया की चाय की स्टॉल में उनके साथ कार्य करना शुरू कर दिया। ये जब छोटे थे तो परिवारजन इन्हें नरिया नाम से भी पुकारते थे।

जब वे मात्र 8 साल के थे तो उन्होंने पढ़ाई भी जारी रखी और पढ़ाई के साथ-साथ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) में भी जुड़ गए थे और नियमित रूप से आरएसएस की सभा में जाते थे।

ये जब विद्यालय में पढ़ते थे, तब इन्हें नाटकों में भाग लेने का बहुत शौक था। उनके परिवार की आर्थिक स्थिति बहुत अच्छी नहीं थी, परिवारजनों ने तो कभी कल्पना भी नहीं की होगी कि वे बड़े होकर पूरे देश का भार संभालेंगे। इस तरह इनका बाल्यकाल काफी संघर्षपूर्ण रहा, क्योंकि बचपन से ही इन्हें परिवार के लिए काम की जिम्मेदारी उठानी पड़ी।

जब ये मात्र 13 साल के थे तब इनकी सगाई जसोदाबेन के साथ हुई और 17 साल में उनके साथ इनका विवाह भी हो गया। लेकिन ये कुछ साल ही अपने विवाहित जीवन में रहे और फिर ये उनसे अलग हो गए।

क्यूंकि मोदी जी के अनुसार ये अपना पूर्ण जीवन राजनीति में रहकर जनता की सेवा में बिताना चाहते थे और विवाह के बाद पत्नी और बच्चों की जिम्मदारियां संभालने में हो सकता है उनके कर्तव्य पथ में रुकावटें पैदा हो, इसीलिए उन्होंने अकेले रहना ही पसंद किया।

मोदी जी की शिक्षा

मोदी जी ने वड़नगर के भगवताचार्य नारायणाचार्य नामक विद्यालय में पढ़ाई की। इन्होंने सन 1980 में राजनीति शास्त्र में एमए की परीक्षा पास की। इनके शिक्षकों के अनुसार मोदी जी पढ़ाई में मध्यम वर्ग के थे। लेकिन वे कुछ गतिविधियों जैसे नाटक, अभिनय और वाद विवाद में बहुत अच्छे थे और काफी रुचि भी लेते थे।

जब वे युवा अवस्था में थे, तब विद्यार्थियों के एक संगठन जिसका नाम अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद था उसमें में जुड़ गए। तभी इन्होंने भ्रष्टाचार के विरुद्ध नव निर्माण आन्दोलन में भी भाग लिया था।

जब वे किशोरावस्था में थे तो उस समय भारत और पाकिस्तान के मध्य द्वितीय युद्ध चल रहा था। तब इन्होंने अपने सेवाभाव के कारण से रेलवे स्टेशन पर जाकर वहां से यात्रा करने वाले सभी सैनिकों को चाय पिलाई और उनकी सेवा की।

नरेंद्र मोदी जी का आकर्षक व्यक्तित्व

नरेन्द्र मोदी जी युवाओं में, बच्चों और बूढों में, हर उम्र के लोगों में प्रसिद्ध रहे हैं और उनका आकर्षक और आत्मविश्वासी व्यक्तित्व हर किसी को उनका समर्थक बना देता है। वे युवाओं के रोल मॉडल हैं और सभी के लिए आदर्श राजनेता। ये शाकाहारी भोजन ही लेते हैं और इनकी लेखन में भी बहुत रुचि है।

मोदी जी का दृढ़ निश्चय और विश्वास से परिपूर्ण स्वभाव इनकी खास विशेषता है। इन्होंने देश में ही नहीं बल्कि विदेशों में भी भ्रमण करके भारत देश के साथ दूसरे देशों के संबंधों और मित्रता को मजबूत किया, जिससे बहुत फायदा हुआ है। ये ईमानदार हैं और समय के साथ बदलाव में विश्वास रखते हैं। इन्हें भ्रष्टाचार से सख्त नफरत रही है।

राजनीति में शुरुआत

इन्होंने सर्वप्रथम सन 1973 में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ में प्रचारक के तौर पर काम करना चालू किया। फिर इनकी लगन और कर्मपरायणता को देखते हुए सन 1987 में इन्हे भारतीय जनता पार्टी में स्थान मिला।

तत्पश्चात इन्होंने बीजेपी के सदस्य के रूप में खूब मेहनत से कार्य किया और सभी को अपनी प्रतिभा से परिचित करवाया। जिससे नरेन्द्र मोदी जी सन 2001 में गुजरात राज्य के मुख्यमंत्री बन गए, जो कि उनके करियर की अतिमहत्वपूर्ण उपलब्धि थी।

उन्होंने अपना कार्यभार बहुत अच्छे से संभाला, परन्तु जब सन 2002 में गुजरात राज्य में जातिवाद की समस्या फैली और दंगे फसाद हुए तो इस वजह से नरेन्द्र मोदी जी के ऊपर कई सवाल उठाए गए और इनपर दंगो में साथ देने और लोगों को भड़काने के भी लांछन लगाए गए।

ऐसा भी कहा जाता है कि तब उन्हें अपने पद से त्यागपत्र देने के लिए कहा जा रहा था, लेकिन वे अपने कर्तव्य पथ पर डटे रहे और हर परेशानी का सामना करने में जुट गए।

गुजरात में अपने मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए, इन्होंने जनता के हित में कई कार्य किए और लगातार वहां के विकास में योगदान दिया। जिसके कारण गुजरात कि जनता उन्हें बहुत पसंद करती थी और वे लगातार 4 बार सन 2001 से 2014 तक इस पद पर आसीन रहे।

मुख्यमंत्री से प्रधानमंत्री बनने का सफ़र

गुजरात में किए गए इनके कार्यों की वजह से ना सिर्फ गुजरात में बल्कि पूरे देश में इन्होंने ख्याति प्राप्त की। सारा देश इनके काम और शासन को सराह रहा था। इसी बीच मोदी जी ने सन 2014 में भारतीय जनता पार्टी की तरफ से ही प्रधानमंत्री पद के लिए चुनाव लड़ा।

इस चुनाव के दौरान उन्होंने कई जगहों पर भाषण दिए और भारत की जनता से वोट देने की अपील की, ताकि वे पूरे देश की तरक्की के लिए महत्वपूर्ण कार्य करके जनता की सेवा कर सकें। उनका आत्मविश्वास से लबरेज व्यक्तित्व और नेतृत्व क्षमता से सभी उनके समर्थक बने।

जिसके फलस्वरूप बीजेपी की सरकार ने बहुमत से 282 सीटों को जीत लिया और नरेन्द्र मोदी जी भारत के 15 वें प्रधानमंत्री बने। सभी आश्चर्य चकित थे कि बचपन में रेलवे स्टेशन पर जो बालक चाय बेचा करता था, आज वो प्रधानमंत्री बनकर सारे देश का कार्यभार संभालेगा।

सभी नागरिकों के साथ ‘लाइव चैट करने वाले ये भारत के प्रथम राजनेता भी बने, जो हमारे देश के लिए एक गौरवपूर्ण बात है। मोदी जी ट्विटर नामक लोकप्रिय वेबसाइट पर सक्रिय रहकर नागरिकों तक अपने संदेश पहुंचाते रहते हैं।

हर व्यक्ति के लिए वे रोलमॉडल हैं चाहे वो बच्चा हो या युवा। केवल इस वेबसाइट पर ही उन्हें करीब 30 मिलियन लोग फॉलो करते हैं। मोदी जी दुनिया में चौथे ऐसे नेता हैं जो इस सोशल नेटवर्किंग वेबसाइट पर इतने फेमस हैं।

मोदी जी के कार्य

इन्होंने अपने कार्यकाल में देशहित के बहुत से काम किए और आज भी निरंतर कर रहे हैं। इन्होंने भ्रष्टाचार के विरूद्ध कड़ी कार्रवाई के लिए नियम बनाए जैसे की नोटबंदी, जिससे भ्रष्टाचारियों का भंडाफोड़ हुआ और देश में भ्रष्टाचार कम हुआ। देश के सर्वांगीण विकास के लिए इन्होंने कई कार्य किए।

मोदी जी ने बच्चों और महिलाओं की शिक्षा पर जोर दिया, ताकि देश का भविष्य उज्जवल हो सके। कृषिप्रधान देश भारत में किसानों कि हालात अच्छी नहीं थी, तो उन्होंने किसानों के हित में कई योजनाएं बनाई और उनकी सहायता की।

इन्होंने गरीब, असहाय और विकलांग व्यक्तियों के लिए भी उनकी सहायतार्थ बहुत से काम किए। इतना ही नहीं इन्होने महिलाओं को आत्मनिर्भर बनाने हेतु कार्य किए। विदेशों में मित्रतापूर्ण संबंध बनाकर उनसे व्यापार और उद्योग में बढ़ावा दिया।

सभी को शिक्षा और रोजगार दिलाने के लिए बहुत प्रयास किए और इस हेतु कई नियम और योजनाओं का क्रियान्वयन किया। युवा पीढ़ी को रोजगार हेतु मेक इन इंडिया, स्किल इंडिया, स्टार्ट अप इंडिया इत्यादि योजनाएं शुरू की और इसके साथ ही गृह उद्योग और लघु उद्योगों को भी प्रोत्साहन दिया।

इन्होंने डिजिटल इंडिया अभियान शुरू किया, जिसके तहत सभी काम डिजिटल पद्धति से किए जाने लगे और सूचना व संचार प्रौद्योगिकी को बढ़ावा मिला। हर गांव और शहर को डिजिटलाइजेशन से जोड़ा गया। भारत में कई जगह पर मेट्रो रेल की सेवा शुरू की गई और स्टेशनों पर सुविधाएं उपलब्ध करवाई गई।

इन्होंने स्वच्छ भारत अभियान की भी शुरुआत की, जिसमें उन्होंने सारे भारत को स्वछता का संदेश दिया और इसमें योगदान के लिए कहा। बहुत से बड़े बड़े उद्योगपति और बॉलीवुड अभिनेताओं ने भी इस अभियान में बढ़ चढ़ कर भाग लिया। जिसे देखते हुए सारे भारतवासियों ने उनका सहयोग किया और देश में हर स्थान पर सफाई में विशेष ध्यान दिया गया।

इतना ही नहीं मोदी जी ने देश रक्षा के लिए समय समय पर कानून बनाए और सैनिकों को हर प्रकार से सहायता देकर उनका उत्साह वर्धन किया। मोदी जी के कार्यों और उनके व्यक्तित्व से हम सभी को प्रेरणा लेनी चाहिए और देशहित के लिए उनका योगदान करना चाहिए, ताकि हमारा भारतवर्ष तरक्की की राह में आगे बढ़ता रहे।


इन्हे भी पढ़े :-

तो यह था प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर निबंध, आशा करता हूं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर हिंदी में लिखा निबंध (Hindi Essay On Narendra Modi) आपको पसंद आया होगा। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा है, तो इस लेख को सभी के साथ शेयर करे।

Sharing is caring!

Leave a Comment