मेरा गाँव पर निबंध (My Village Essay In Hindi)

आज हम मेरा गाँव पर निबंध (Essay On My Village In Hindi) लिखेंगे। मेरा गाँव पर लिखा यह निबंध बच्चो (kids) और class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए लिखा गया है।

मेरा गाँव पर लिखा हुआ यह निबंध (Essay On Mera Gaon In Hindi) आप अपने स्कूल या फिर कॉलेज प्रोजेक्ट के लिए इस्तेमाल कर सकते है। आपको हमारे इस वेबसाइट पर और भी कही विषयो पर हिंदी में निबंध मिलेंगे, जिन्हे आप पढ़ सकते है।


मेरा गाँव पर निबंध (My Village Essay In Hindi)


प्रस्तावना

गाँव के बिना हमारा देश कुछ भी नहीं है। हमारे देश में आधे से ज़्यादा लोग गाँव में रहते है। हमारे देश की उन्नति के पीछे गाँव महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। किसान गाँव में रहकर फसलों का उत्पादन करते है।

फसलों का उत्पादन करके उसे शहरों की सब्ज़ी मंडी में भेजा जाता है। वहीं से हमे अनाज, फल और सब्ज़ी प्राप्त होते है। अगर गाँव नहीं होते तो फसलों का उत्पादन नहीं हो पाता। गाँव की प्राकृतिक सुंदरता सभी के मन को मोह लेती है।

वायु प्रदूषण से दूर और हरियाली के बीच गाँव का सौंदर्य देखते ही बनता है। मेरा गाँव भी कुछ ऐसा ही है। मेरा गाँव गंगा नदी से थोड़ी दूर है। मैं कोलकाता शहर में रहता हूँ और जैसे ही गर्मियों की छुट्टी मिलती है, मैं अपने दादाजी को मिलने अपने परिवार के साथ गाँव जाता हूँ। मुझे गाँव के खेत खलियान, तालाब के पास बैठना बहुत अच्छा लगता है।

आजकल लोग शहरों की व्यस्तता और भीड़ भाड़ से परेशान होकर गाँव में आकर कुछ दिन बिताना चाहते है। गाँव की ताज़ी हवा और शान्ति सभी के मन को शान्ति और सुख प्रदान करती है।

रात की शांत और ताज़ी ठंडी हवा मन और मस्तिष्क को शांत कर देती है। शहरों की भाग दौड़ से दूर गाँव एक बेहतरीन स्थान है। यहाँ की प्राकृतिक सौंदर्य को अनुभव करके हमारे अंदर बसी सारी तकलीफे दूर हो जाती है।

किसानो का निवास

मेरे दादाजी के भी खेत है। वह खेतो में उगाई गयी सब्ज़ी और फल खाते है। मेरे गाँव में अधिकतर किसान और उनके परिवार रहते है। हालांकि गाँव में लघु और कुटीर उद्योग में काम करने वाले लोग भी रहते है। किसान कृषि और पशु पालन करके अपना दैनिक जीवन का गुजारा करते है। गाय, भैंस और मुर्गी, मछली पालन करके अपनी आजीविका चलाते है।

कृषि प्रधान देश

मेरे गाँव में कृषि करके मुख्यत लोग अपना गुजारा करते है। हमारे देश के कृषक बड़े परिश्रमी होते है। भारत की उपजाऊ भूमि में वह खेती बाड़ी करते है। किसानो की वजह से हम भूखे पेट नहीं सोते है।

आजकल विज्ञान ने कृषि क्षेत्र में काफी योगदान दिया है। इससे किसानो को बड़ा लाभ पहुंचा है। मेरे गाँव में किसान सिंचाई के नए पद्धतियों को अपना रहे है। भारत सही माईनो में एक कृषि प्रधान देश है। यह गाँव और किसानो की मेहनत से संभव हो पाया है।

गाँव के लोगो का साफ़ मन

गाँव के लोग अतिथियों की मन से सेवा करते है। उनका मन स्वच्छ होता है। वह स्वभाव से मददगार होते है। वह लोगो पर जल्द भरोसा कर लेते है। इसलिए कभी – कभी बुरे लोग और साहूकार उन्हें ठग लेते है और पैसो के मामले में उनका शोषण करते है।

शहरों में रहने वाले अधिकतर लोग स्वार्थी होते है, मगर गाँव में रहने वाले लोग हमेशा दूसरो की मदद करते है। अब मेरे गाँव के लोग शिक्षित हो रहे है और पहले से अधिक जागरूक हो गए है। गाँव के लोग देशी पोशाक पहनते है। उनका रहन- सहन भारतीय संस्कृति और परम्पराओ को दर्शाता है।

गाँव का दैनिक जीवन

मेरे गाँव और लगभग हर गाँव में लोग प्रातकाल उठते है। गाँव के सभी लोग सुबह ही अपने काम पर निकल जाते है। गाय और भैंस को चारा खिलाना और खेतो पर जाकर काम करना शुरू कर देते है। उनका जीवन सादगी भरा होता है। वह बेहद सीधे – साधे होते है।

आधुनिक जीवन से दूर

मेरे गाँव के लोग प्राकृतिक सामग्रियों पर ज़्यादा निर्भर करते है। गाँव के लोग आधुनिक जीवन के बनावटीपन से कोसो दूर रहते है। वह कृषि पर निर्भर रहते है। कुछ महीने लोग कुटीर और लघु उद्योगों में काम करके अपना जीवन यापन करते है।

गाँव के लोग शहरी लोगो की तरह जल्दी बीमार नहीं पड़ते है। उन्हें कठोर काम और परिश्रम करने की आदत होती है। गाँव के लोग अपना काम खुद करते है। मेरे गाँव के लोग ताज़े फल, सब्ज़ियां और शुद्ध दूध पीते है। वह सेहतमंद रहते है। गाँव में प्रदूषण नहीं होता है, इसलिए जाहिर सी बात है प्रदूषण मुक्त जीवन में लोग बीमार नहीं पड़ते है।

ज़्यादा सुविधाएं ना मिलना

शहरों की तुलना में गाँव में सुविधाएं कम होती है। यहाँ नौकरियों के इतने अवसर नहीं मिलते है। कई प्रकार की सुविधाएं मेरे गाँव में नहीं है। मेरे गाँव के लोग फिर भी सुखी और संतुष्ट भरा जीवन जीते है।

कुछ लोग आजकल शहरी चमक दमक से प्रभावित होकर शहरों की तरफ पलायन करते है। सरकार को किसानो को अतिरिक्त सुविधा देनी चाहिए, ताकि कृषि पर से उनका भरोसा  ना जाए। दुर्भाग्यवश जिस प्रकार शहरों की उन्नति हुयी उतनी मेरे गाँव या किसी अन्य गाँव की नहीं हो पायी है। देश तभी उन्नति करेगा जब गाँव का विकास होगा।

गाँव में विकास

चिकित्सालय

मेरा गाँव पहले से अधिक विकसित हुआ है। सरकार और ग्राम पंचायत द्वारा अस्पताल का निर्माण करवाया गया। अस्पताल में निशुल्क चिकित्सा सेवा दि जा रही है। ज़रूरत मंद लोगो को मुफ्त में दवाइयां दि जाती है। यहा के स्वास्थ्यकर्मी गाँव वालो से अच्छे से बात करते है और अच्छी चिकित्सा प्रदान करते है।

विद्यालय

गाँव में प्राथमिक और माध्यमिक कक्षाओं के लिए कुछ वर्ष पहले एक अच्छे विद्यालय का निर्माण किया गया है। यहाँ प्राथमिक कक्षाओं तक बच्चो को मुफ्त शिक्षा प्रदान की जाती है।  सरकार अब कोशिश कर रही है कि गाँव में कोई भी अशिक्षित ना रहे।

सरकारी बैंक

किसानो और सभी गाँव वालो की आर्थिक सहायता, सुरक्षा के लिए बैंक का निर्माण सरकार द्वारा करवाया गया है। किसान अपने निजी खाते खुलवा सके और उन्हें अपने छोटे व्यवसाय के लिए अगर लोन चाहिए, तो सरकारी बैंक से मिल सकता है।

सिंचाई और बिजली की सुविधा

अच्छे फसलों के लिए मेरे गाँव में पहले से अधिक बेहतर और उन्नत सिंचाई की सुविधा है। सिंचाई के लिए जगह जगह टुब वेल भी बने हुए। बहुत सालो पहले मेरे गाँव में बिजली की सुविधा नहीं थी। अभी बिजली की सुविधा है और रात को दिक्कतें नहीं होती है।

समस्त गाँव में जल की सप्लाई के लिए पानी की टंकी का हाल ही में निर्माण करवाया गया है। यहाँ से सम्पूर्ण गाँव में पानी की सप्लाई दी जाती है।

गाँव में शिक्षा

मेरे गाँव के लोग जैसे -जैसे शिक्षित हो रहे है, उन्हें सही गलत का फर्क समझ आ रहा है। वह पहले के जैसे अंधविश्वासों पर विश्वास नहीं करते है। जैसे देश उन्नति कर रहा है, मेरे गाँव के लोगो के सोच में परिवर्तन आ रहा है।

अब भोले भाले लोगो को कोई मुर्ख नहीं बना पायेगा। इसलिए मेरे गाँव के लोग शिक्षित हो रहे है। कई ऐसे गाँव अभी भी है जो अशिक्षा की परेशानी झेल रहे है। अब गाँव के लोग भी शिक्षित होना चाहते है।

गाँव में पक्की सड़के और यातायात के साधन

अब मेरे गाँव की सड़के कच्ची नहीं है। अब पक्की और मज़बूत सड़के बन गयी है, ताकि यात्रा करने में कोई असुविधा ना हो। मेरे गाँव में अब बस स्टैंड बना दिया गया है, जो पास ही में है। अब इतना पैदल चलने की ज़रूरत नहीं पड़ती है। मेरे गाँव के प्रमुख राहो पर सड़के बनवा दिए गए है। यहाँ ज़रूरत पड़ने पर हम शहरों की ओर जा सकते है।

गाँव में भारतीय संस्कृति अभी भी जीवित

भारतीय संस्कृति को जीवित रखने के पीछे गाँव का बड़ा योगदान है। मेरे गाँव के लोग अभी भी त्योहारों को पुराने रीति रिवाज़ो के अनुसार मनाते है। कई प्रकार के सांस्कृतिक कार्यक्रम मेरे गाँव में आयोजित किये जाते है। पुराने संस्कृति की झलक आज भी इन कार्यक्रमों में देखने को मिलती है।

गाँव की पंचायत

मेरे गाँव में पंचायत है। गाँव के सारे ज़रूरी फैसले सरपंच करते है। गाँव में न्याय, अन्याय से संबंधित निर्णय पंचायत करती है। गाँव में किसी प्रकार की समस्या और झगड़े को पंचायत संगठन की ओर से सुलझाया जाता है।

गाँव में संचार माध्यम

मेरे गाँव में संचार के साधन टेलीफोन और मोबाइल फ़ोन की सुविधा उपलब्ध है। यहाँ लोग मोबाइल की सहायता से किसी से भी सरलता से बात कर सकते है।

आजीविका के माध्यम

गाँव के लोग साधारण प्रवृति के होते है। गाँव के लोग सबसे अधिक परिश्रम करते है। वह मानसिक और शारीरिक तौर पर मज़बूत होते है। पशु पालन, कृषि के अलावा छोटे व्यवसाय भी करते है।

मेरे गाँव में सरकार ने किसानो की उन्नति के लिए कम ब्याज पर लोन देने की प्रक्रिया आरम्भ की है। अब किसान कृषि के आलावा अपने छोटे व्यवसाय भी कर सकते है। मेरे गाँव के विकास के लिए सरकार ने बहुत कार्य किये है।

कई प्रकार की योजनाएं सरकार ने मेरे गाँव की उन्नति के लिए शुरू किये है। औरतों को भी लघु उद्योगों में हस्तशिल्प से संबंधित कार्य करने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है।

तनाव मुक्त जीवन और अपनत्व का एहसास

गाँव में आकर लोग सही माईनो में स्वस्थ हो जाते है। यहाँ के प्रदूषण मुक्त वातावरण में लोगो को सांस लेने में कोई परेशानी नहीं होती है। गाँव में आकर मेरी सारी परेशानी और तनाव दूर हो जाते है। यहाँ अपने परिवार के सदस्यों से मिलकर मुझे बेहद ख़ुशी होती है और अपनेपन का एहसास होता है।

निष्कर्ष

गाँव के सादगीपन को देखने और अनुभव करने के लिए दूर दूर से लोग यहाँ आते है। आज गाँव धीरे – धीरे विकसित हो रहे है। गाँवों को पहले ही उन्नत हो जाना चाहिए था। अभी भी सरकार को गाँवों की प्रगति के लिए बहुत कुछ करना है। मेरा गाँव भी विकास की ओर कदम बढ़ा रहा है। गाँव में जाते ही मेरा मन प्रफुल्लित हो उठता है। मुझे मेरा गाँव सबसे अधिक प्रिय है।


तो यह था मेरा गाँव पर निबंध (Mera Gaon Essay In Hindi), आशा करता हूं कि मेरा गाँव पर हिंदी में लिखा निबंध (Hindi Essay On My Village) आपको पसंद आया होगा। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा है, तो इस लेख को सभी के साथ शेयर करे।

Sharing is caring!

Leave a Comment