मेरा स्कूल पर निबंध (My School Essay In Hindi)

आज के इस लेख में हम मेरा स्कूल विषय पर निबंध (Essay On My School In Hindi) लिखेंगे। मेरा स्कूल विषय पर लिखा यह निबंध बच्चो और class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए लिखा गया है।

मेरा स्कूल विषय पर लिखा हुआ यह निबंध (Essay On My School In Hindi) आप अपने स्कूल या फिर कॉलेज प्रोजेक्ट के लिए इस्तेमाल कर सकते है। आपको हमारे इस वेबसाइट पर और भी कही विषयो पर हिंदी में निबंध मिलेंगे, जिन्हे आप पढ़ सकते है।

मेरा स्कूल पर निबंध (My School Essay In Hindi)


प्रस्तावना 

घर के बाद एक बच्चे के जिंदगी में पहला बदलाव स्कूल होता है। स्कूल के जरिए ही एक बच्चा पहली बार दुनियाँ से सामना करता है और बहुत कुछ सीखता है। इसलिए ऐसा कह सकते हैं कि किसी भी बच्चे के जीवन मे स्कूल का बहुत अधिक महत्व होता है।

यह महत्व सिर्फ पढ़ाई की दृष्टि से नही बल्कि एक बच्चे के पूरे व्यक्तित्व विकास में भी बहुत अहम होता है। ठीक इसी तरह मेरे जीवन मे भी स्कूल का महत्व रहा है। मेरे स्कूल का नाम सरस्वती शिशु मंदिर है।

मेरे स्कूल की गिनती शहर के कुछ प्रसिद्ध स्कूलों में होती है, इस वजह से हर विद्यार्थी यहां से पढ़ने के लिए लालायित रहता है। लेकिन यहाँ आना इतना आसान नही है। मेरे स्कूल में कोई भी विद्यार्थी तभी प्रवेश पा सकता है जब वह प्रवेश परीक्षा को पास कर पाएगा।

हर वर्ष हमारे स्कूल में एक प्रवेश परीक्षा आयोजित की जाती है, जिसको देने के लिए शहर और गाँव के विद्यार्थी आते हैं। परीक्षा के बाद इन लोगों को नंबर दिए जाते हैं, जिसके आधार पर एक मेरिट लिस्ट बनाई जाती है।

मेरिट लिस्ट के आधार पर ही कोई भी यहां पर प्रवेश पा सकता है। जिसका नाम उंस मेरिट लिस्ट में होगा उसका प्रवेश सुनिश्चचित हो जाता है। लेकिन जिनका नाम नही है उन्हें प्रवेश नही मिल पाएगा। हालांकि वह दूसरी बार परीक्षा में जरूर बैठ सकते हैं, इसके लिए उन पर कोई पाबंदी नही है।

स्कूल का परिसर

हमारे स्कूल का परिसर बहुत ही भव्य है, क्योंकि यहां कक्षा 1 से लेकर 12 वी तक कि कक्षाएं लगती है। कक्षा 1 से लेकर 10 वी तक कि कक्षाओं के लिए एक अलग परिसर है, जबकि कक्षा 11 वी और 12 वी के लिए दूसरा परिसर बनाया गया है।

इन दोनों परिसरों के बीच दो बड़े खेल के मैदान हैं जिसमें एक तरफ 11, 12 वी के विद्यार्थी होते हैं ,जबकि दूसरे मैदान में 10वी और बाकी कक्षा के बच्चे होते हैं। इन दोनों मैदानों के बीचो बीच एक सड़क बनी हुई है।

जहां से गुजर कर हमारी स्कूल बस जाती है। हमारे स्कूल में कुल 3 स्कूल बस हैं। कई लोग सायकल से तो कुछ लोग बाइक से भी स्कूल आते हैं। मैं फिलहाल बस से ही स्कूल आता हूँ। स्कूल में 2 मंजिला इमारत बनी हुई है। जिसमें निचली मंजिला में 11वी की कक्षा लगती है।

और वही ऊपरी मंजिला में 12 की कक्षा लगती है, जबकि सबसे ऊपर वाले मंजिल में प्रार्थनाएं होती हैं। स्कूल का प्रार्थना कक्ष इतना बड़ा बना हुआ है, कि उसमें 350 बच्चे आसानी से बैठ सकते हैं।

प्रार्थना कक्ष के फर्श में कालीन बिछाई गई है, जिसका रंग गुलाबी है। सामने एक मंच है, जहाँ से कभी कभी हमारे प्रधानाचार्य स्पीच देते हैं। हमारे स्कूल के सबसे नीचे वाली मंजिल में ही प्रधानाध्यापक का कक्ष है। इसके ठीक बगल में पुस्तकालय बना हुआ है, हम सब अपनी जरूरत की कई किताबें पुस्तकालय से ही लेते हैं।

पुस्तकालय के बगल में फीस जमा करने का कक्ष बना हुआ है, यही पर फ़ीस से संबंधित सभी काम किए जाते हैं।

स्कूल में मिलने वाली सुविधाएँ

हमारे स्कूल में जरूरत की हर सुविधा उपलब्ध है। जैसे कि कई बच्चों को खेल में काफी रुचि होती है तो ऐसे स्टूडेंट्स के लिए खेल से जुड़े सभी सामान मिल जाते हैं।

हमारे स्कूल में क्रिकेट से संबंधित सभी सामान मौजूद है, जैसे बैट, गेंद, विकेट, ग्लब्स आदि। वही फुटबाल पसंद करने वालों के लिए यहां पर फ़ुटबॉल भी मौजूद है। इसके साथ साथ, बैडमिंटन, रस्सी कूद जैसे खेल की तमाम सुविधाएं यहाँ मिल जाती है।

कुछ स्टूडेंट्स को खेल में आगे बढ़ना होता है और उन्हें लंबी कूद, ऊंची कूद, गोला फेक, भाला फेक जैसी कई प्रतियोगिताएं काफी लुभाती है। ऐसे विद्यार्थियों के ट्रेनिंग के लिए भी हमारे स्कूल में पर्याप्त साजो-सामान मौजूद है।

खेल से अलग बात करें तो हमारे स्कूल में एक बेहतरीन कंप्यूटर लैब है, जिसमें करीब 60 कंप्यूटर्स होंगे। हर स्टूडेंट को एक एक कंप्यूटर दिया जाता है। कंप्यूटर चलाना हम सबको बहुत पसंद होता है, इसलिये कंप्यूटर का क्लास मुझे बहुत पसंद होता है।

कंप्यूटर के अलावा पुस्तकालय भी मुझे बहुत पसंद है। जहां से मुझे अपने पसंद की कई किताबें मिल जाती है। हमारे स्कूल के पुस्तकालय में कोर्स की किताबों के साथ साथ अन्य तरह की किताबें भी रहती है। जैसे कि किस्से कहानियों की किताबें, कविताओं और महान पुरुषों की जीवनी संबंधी किताबें।

मुझे कविताओं और महान लोगों की जीवनी पढ़ने में काफी रुचि है। इसलिए मैं बार बार वही किताबें पुस्तकालय से जारी करवाता रहता हूँ।

स्कूल में होने वाले सांस्कृतिक कार्यक्रम

मेरे स्कूल में हमेशा दिन में 3 वक़्त प्रार्थना होती है। पहली प्रार्थना सुबह के वक़्त होती है जब हम लोग स्कूल आते हैं। इस दौरान हम सरस्वती वंदना, गीता पाठ करते हैं। इसके बाद 5 मिनट के लिए भ्रामरी प्राणायाम, और ॐ का उच्चारण करते हैं।

प्राणायाम करने के बाद हमारी एकाग्रता काफी ज्यादा बढ़ जाती है, जिससे पढ़ाया हुआ हमे आसानी से और जल्दी समझ मे आता है। इसके बाद भोजन के वक़्त भी हम एक प्रार्थना करते हैं।

फिर जब स्कूल से छुट्टी होती है तो एक छोटी सी प्रार्थना होती है। इन सब के अलावा हमारे स्कूल में हर साल सरस्वती पूजा का कार्यक्रम बहुत धूमधाम से मनाया जाता है। कई मुख्य अतिथि भी इसमे शामिल होते हैं।

हर साल वार्षिक समारोह का आयोजन भी किया जाता है, जिसमें कई स्टूडेंट्स भाग भी लेते हैं। स्वतंत्रता दिवस, गणतंत्र दिवस जैसे महत्वपूर्ण पर्व बहुत अच्छे से मनाए जाते हैं।

इसके अलावा हर वर्ष पूर्व छात्र मिलन नाम का एक प्रोग्राम चलाया जाता है, जिसमे हमारे स्कूल में पढ़े हुए कई छात्रों को बुलाया जाता है। इसमे से कई ऐसे होते हैं जो अपने कैरियर में काफी ऊँचाई में होते हैं।

ऐसे पूर्व छात्रों के जरिए लगातार हमे अच्छी अच्छी बातें बताई जाती है और साथ मे भविष्य में आने वाली चुनौतियों से भी अवगत करवाया जाता है।

स्कूल में होने वाली परीक्षाएं

मेरा स्कूल इन सब चीजों के साथ साथ पढ़ाई पर भी विशेष ध्यान देता है। इसलिए हर माह मासिक टेस्ट जरूर होती है। मासिक टेस्ट हालांकि उतना कठिन नही होता है, लेकिन फिर भी इस टेस्ट में भी अच्छा करने का दवाब हमारे ऊपर बना रहता है।

इसके साथ ही हर तीन तीन माह में हमारी परीक्षाएं आयोजित करवाई जाती है। जैसे 3 माह बाद त्रैमासिक परीक्षाएं, 6 माह बाद अर्धवार्षिक परीक्षाएं और फिर आखिरी में वार्षिक परीक्षाएं आयोजित करवाई जाती हैं।

इन्ही तीनो परीक्षाओं के आधार पर हमारा रिजल्ट बनाया जाता है। इसके साथ साथ हमारी स्टूडेंट्स के लिए हर वर्ष प्रवेश परीक्षाएं भी आयोजित कराई जाती है। इसके लिए स्कूल के शिक्षक ही पेपर तैयार करते हैं और नंबर के आधार पर  स्टूडेंट्स की एक सूची तैयार करते हैं।

स्कूल के शिक्षक

हमारे स्कूल के शिक्षकों की बात करें तो वह सब बहुत ही योग्य और हमारे साथ सहानुभूति जताने वाले होते हैं।  सभी शिक्षक इस बात की पूरी कोशिश करते हैं कि विषय की समझ हमारी गहरी हो। इसके लिए वह विषय को पूरी गहराई से समझाते हैं।

इसके साथ ही यदि किसी भी स्टूडेंट को विषय को समझने में दिक्कत हो रही है, तो वह क्लास के बाद अलग से उंस विषय के शिक्षक से मिलकर उस टॉपिक को दोबारा भी समझा सकता है।

इसके लिए कोई भी शिक्षक मना नही करता है। यदि मैं बताऊं की मुझे सबसे अधिक कौन से शिक्षक पसंद है तो मैं कहूंगा कि वैसे तो सभी शिक्षक पसंद है। लेकिन जो मुझे हिंदी पढ़ाते हैं, उनके पढ़ाने का तरीका काफी अलग है जो कि मुझे बहुत अच्छा लगता है।

वही स्कूल में खेल के लिए एक अलग शिक्षक नियुक्त किये गए हैं, जिनका काम सिर्फ हम लोगो को खेल खिलाना और सीखाना है।

उपसंहार

किसी भी व्यक्ति के जीवन की मीठी यादों में स्कूल का जीवन जरूर शामिल होता है। इसलिए मैं खुद को बहुत भाग्यशाली मानता हूं कि मुझे एक ऐसे वातावरण में रहने और पढ़ने का अवसर मिल रहा है, जो बहुत ही सकारात्मक है, जहां से मैं हर दिन काफी कुछ सीखता हूँ।

यहाँ मुझे हर दिन अच्छा लगता है। शिक्षको का सानिध्य और अपने दोस्तों का साथ मुझे स्कूल छोड़ने के बाद भी बहुत याद रहेगा और मै इसे हमेशा याद करूँगा।


मेरा स्कूल पर निबंध (Short Essay On My School In Hindi)


मेरे विद्यालय का नाम उच्चय विद्यालय हैं। ये एक बहुत बड़ी ईमारत हैं और इसमें सभी क्लास के क्षात्रो के लिए अलग अलग कमरा बनाये हुए हैं। सभी क्लास में खिड़किया बनायी हुइ हैं, जिससे हमें प्राकृतिक रौशनी मिल पाती हैं।

मेरे स्कूल में हर कक्षा में बेंच लगाये हुए हैं। इस विद्यालय में हम पहली क्लास से पढ़ते आ रहे हैं। हमारे पाठशाला में सभी विषय के शिक्षक उपलब्ध हैं। जब हम सुबह में विद्यालय आते हैं, तो हमारे बिद्यालय की साफ -सफाई होते रहती हैं और हमारे विद्यालय के क्लास रूम भी साफ सुथरे रहते हैं। जिस वजह से मुझे मेरे विद्यालय में पढ़ना अच्छा लगता हैं।

विद्यालय आने के बाद हमें सबसे पहले प्रार्थना करवायी जाती हैं। उस प्रार्थना में विद्यालय के सभी विद्यार्थी और सभी शिक्षक शामिल होते हैं। प्रार्थना के समय कोई भी बच्चा शोर नहीं करता हैं।

नहीं तो अगर कोई भी बच्चा प्रार्थना के समय कुछ और करते रहता हैं। उसे प्रार्थना ख़त्म होने के बाद हमारे विद्यालय के शिक्षक उसे कुछ न कुछ सजा देते हैं। इसलिए हमारे बिद्यालय में सभी क्षात्र शांति पूर्वक प्रार्थना करते हैं।

प्रार्थना खत्म होने के बाद सभी बच्चो को राष्ट्रीय गाण करवाया जाता हैं और “भारत माता की जय” का नारा लगाया जाता हैं। मेरे स्कूल में सभी बहुत ही अनुशासन में रहते हैं और अनुशासन से पढ़ाई भी करते हैं।

मेरे स्कूल के सभी शिक्षक अपने समय से विद्यालय में आते हैं और हमें पढ़ाने के लिए समय पर क्लास में आते हैं। मेरा विद्यालय का एक बहुत ही अच्छा नियम हैं, जो की है समय से घंटी बजाना और उसी घंटी के अनुशार हमारे सभी बिषय के शिक्षक मेरे क्लास में पढ़ाने आ जाते हैं।

हमारे सभी विषय के शिक्षक रोज पढ़ाने के बाद कुछ ना कुछ घर से (होम वर्क) बनाने के लिए जरूर देते हैं। और दुशरे दिन वो क्लास के सभी बच्चो की कॉपी देखते हैं और जो भी विद्यार्थी होम वर्क नहीं बना कर ले आता है उसे छोटी सी सजा दी जाती हैं। और जो विद्यार्थी होम वर्क बना कर के ले आता है उसे शिक्षक शाबासी देते हैं और उसकी प्रशंसा भी करते है ।

मेरे विद्यालय में सभी शिक्षक अपने -अपने विषय का साप्ताहिक जाँच (टेस्ट) लेते हैं और इसमें देखते हैं कौन विद्यार्थी कितना सीखा। इस टेस्ट में जो अच्छा नंबर लाता हैं उसे पुरस्कार से सम्मानित किया जाता हैं।

इससे हम सभी के मन में बना रहता हैं की अलगे टेस्ट में हम सब से ज्यादा नंबर लाएंगे और पुरस्कार जीतेंगे और इससे हम अपने पढाई पे ज्यादा मेहनत करते हैं।

हमे दोपहर में खाना खाने के लिए समय मिलता हैं। इस समय हम सभी अपने दोस्तो के साथ विद्यालय के ग्राउंड में बैठ कर अपना अपना खाना खाते हैं। मेरा विद्यालय का फिल्ड बहुत बड़ा हैं इसमें बहुत सारे तरह -तरह के पेड़ लगा हुआ हैं। उन पेड़ो को रोज पानी दिया जाता हैं, जिससे हमारे स्कूल का मैदान हरा -भरा रहता हैं।

हमे खेलने के लिए भी समय दिया जाता हैं, जिसमे हमारे खेल के शिक्षक हमे तरह -तरह का खेल खेलणा सिखाते हैं और हम सब उन खेलो का आनंद लेते हैं। शाम तक हमारे सभी विषय की पढ़ाई हो जाती हैं और फिर हमे छुट्टी मिल जाती हैं और उसके पश्चात हम अपने घर पे चले जाते हैं।

हमारे जिंगदगी में विद्यालय एक ऐसी जगह हैं जहा हम अपने माता -पिता से दूर रह कर कुछ घंटो के लिए अपने दिक्कतो का खुद से सामना करते हैं। वहाँ से हम अपनी जिंदगी की शुरुआत करते हैं।

हम अपने बचपन से बड़े होने तक अनेक प्रकर के विद्यालय में पढ़ते हैं। जैसे आंगनवाड़ी, प्राथमिक विद्यालय, माध्यमिक विद्यालय, उच्चत्तर माध्यमिक विद्यालय और विशव विधालय।

आँगनवाड़ी – ये एक छोटा सा केन्द्र होता है जो की मुहल्ले में ही होता है। यहाँ पर हमारे गाँव या मोहल्ले के छोटे -छोटे बच्चो को शिक्षा देने की शुरुआत कि जाती है। यहाँ के शिक्षक बच्चो को कुछ घंटो के लिए अपने परिवार से दूर रहना सिखाते हैं।

आँगनवाड़ी केन्द्र में ज्यादा देर तक पढाई नहीं होती हैं, बच्चो को यहाँ कुछ घंटो के लिए पढ़ाया जाता हैं। ये केंद्र सरकारी होते हैं इसका सभी खर्च सरकार द्वारा दिया जाता हैं।

प्राथमिक विद्यालय – यहाँ क्लास प्रथम से लेकर क्लास (कक्षा) पाँच तक पढाई होती हैं। जिसमे बच्चो को पढ़ाई का और स्कूल आने का तौर -तरीका सिखाया जाता हैं।

माध्यमिक विद्यालय – यहाँ क्लास आठवीं तक पढ़ाया जाता हैं। इस विधालय में बच्चो को सभी विषय का थोड़ी – बहुत जानकारी दि जाती हैं। माध्यमिक विद्यालय का समय ज्यादा तक सुबह 9 बजे से शाम 4 बजे तक होता हैं।

उच्चत्तर माध्यमिक विद्यालय – यहाँ बच्चो को अच्छे से सभी विषय का अनुभव हो जाता हैं। इस विद्यालय में आने के बाद हम अपने आप कुछ पढ़ने लायक बन जाते हैं। इस विधालय में अनुसासन भी अच्छी तरह से सीखाया जाता हैं।

विशव विधालय – यहाँ हमें दुनियाँ की सभी उच्च शिक्षा मिलती हैं। यह आने के बाद सभी बच्चे अपने पढाई को समझने लगते है और उन्हें जिस विषय में ज्यादा रूचि होती हैं। उसमें अपना लक्ष्य प्राप्त करने के लिए पढाई करते हैं।

स्कूल और विद्यालय के लिए जरुरी चीजे 

विद्यालय के आस -पास और विद्यालय में शांति का वातावरण होना बहुत जरुरी हैं। इससे विद्यालय के बच्चो को पढाई में ध्यान लगाने में कठिनाइयों का सामना नहीं करना पड़ेगा।

विद्यालय में सभी विषयो का अच्छा शिक्षक उपलब्ध होना चाहिए। जिससे विधार्थी को सभी विषय पर उचित जानकारी मिल सके और बच्चो को कोई भी विषय के सम्बन्ध में दिक्कत आये तो उसका जबाब शिक्षक दे सके।

विद्यालय में शिक्षक और विधार्थी को अनुशासित रहना चाहिए, इससे हमारे विद्यालय का नाम रौशन होगा। रोज नियमित रूप से सभी बच्चो को होम वर्क (H.W) मिलना चाहिए, जिससे बच्चे अपने घर पे भी कुछ देर पढाई से जुड़े रहे।

विधालय में साफ सफाई रोज होना चाहिए, जिससे विधालय में किसी को बीमारियो का सामना नहीं करना पढ़े और सभी स्वस्थ रह सके। विद्यालय में शौचालय जरूर होना चाहिए और बच्चो को पिने के लिए शुद्ध पिने के पानी की व्यबस्था जरूर होनी चाहिए।

स्कूल में कुछ ना कुछ आयोजन करते रहना चाहिए, इससे विधार्थी अपने स्कूल के साथ आसानी से जुड़ने लगते हैं। स्कूल में नियमित गाणा, डांस और खेलो का आयोजन होना चाहिए और इनकी सुविधा होनी चाहिए। जिससे बच्चो का विद्यालय में मन लगा रहेगा और कुछ न कुछ सिखने को भी मिलता रहेगा।

विद्यालय में साप्ताहिक क्लास टेस्ट होनी चाहिए, इससे बच्चो का मनोवल बढ़ते रहता हैं और विद्यार्थी अपने आप से मेहनत करने की ज्यादा कोशिश करते हैं। इससे विद्यार्थी पढाई में ज्यादा ध्यान देते हैं।

विद्यालय जिंदगी का बहुत बड़ा हिस्सा हैं, जहाँ से हम बहुत सारी अच्छी बाते सीखते हैं। इसीलिए अपने विद्यालय का और अपने शिक्षक का हमेशा सम्मान करना चाहिए। विद्यालय में पढ़ते पढ़ते उससे हमारे बहुत सारी यादे जुड़ जाती हैं।

हमें अपने विद्यालय के बारे में हमेसा अच्छा सोचना चाहिए और अपने लिए और साथ में अपने विद्यालय के लिए कुछ ना कुछ अच्छा करना चाहिए।


इसे भी पढ़े :- शिक्षक दिवस पर निबंध (Teachers Day Essay In Hindi)

तो यह था मेरा स्कूल विषय पर निबंध, आशा करता हूं कि मेरा स्कूल विषय पर हिंदी में लिखा निबंध (Hindi Essay On My School) आपको पसंद आया होगा। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा है, तो इस लेख को सभी के साथ शेयर करे।

Sharing is caring!

2 thoughts on “मेरा स्कूल पर निबंध (My School Essay In Hindi)”

  1. आपने मेरा स्कूल निबंध बहोत अच्छे से लिखा है, मुझे बहोत पसंद आया।

    Reply

Leave a Comment