मेरा प्रिय खेल क्रिकेट पर निबंध (Mera Priya Khel Cricket Essay In Hindi)

आज के इस लेख में हम मेरा प्रिय खेल क्रिकेट पर निबंध (Essay On Mera Priya Khel Cricket In Hindi) लिखेंगे। मेरा प्रिय खेल क्रिकेट पर लिखा यह निबंध बच्चो (kids) और class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए लिखा गया है।

मेरा प्रिय खेल क्रिकेट पर लिखा हुआ यह निबंध (Essay On Mera Priya Khel Cricket In Hindi) आप अपने स्कूल या फिर कॉलेज प्रोजेक्ट के लिए इस्तेमाल कर सकते है। आपको हमारे इस वेबसाइट पर और भी कही विषयो पर हिंदी में निबंध मिलेंगे, जिन्हे आप पढ़ सकते है।

इन्हे भी पढ़े :-


मेरा प्रिय खेल क्रिकेट पर निबंध (Mera Priya Khel Cricket Essay In Hindi)


विश्व का सबसे लोकप्रिय और चहिता खेल क्रिकेट है। विश्व में ही नहीं बल्कि भारत में भी क्रिकेट के दीवाने गली -मोहल्ले में हमे मिल जाएंगे। क्रिकेट खेल को खुले जगह में बल्ले और गेंद के उपयोग से खेला जाता है। क्रिकेट एक ऐसा खेल है जिसमे दो टीम एक दूसरे के विरुद्ध खेलती है।

प्रत्येक टीम में ग्यारह खिलाड़ी होते है। इस खेल को एक विशाल खुले मैदान में खेला जाता है। राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर हिन्दुस्तान में खेला जाने वाला क्रिकेट एक सबसे प्रसिद्ध आउटडोर खेल है। वैसे भारत का राष्ट्रिय खेल हॉकी है, लेकिन क्रिकेट को देश में ज़्यादा पसंद किया जाता है।

सर्वप्रथम गेंदबाज़ी करते हुए टीम से ग्यारह खिलाड़ी मैदान में उतरते है। विपरीत टीम के दो बल्लेबाज़ मैदान में रन बनाने के उद्देश्य से उतरते है। पहली टीम बल्लेबाज़ी करते हुए दूसरे टीम को रनो की चुनौती देती है, जिसका अनुकरण करते हुए विरोधी टीम को उससे ज़्यादा रन बनाने होते है।

अगर वह इसमें कामयाब होते है, तभी वह इस खेल के विजेता कहलाते है। अगर दूसरा टीम रनो का पीछा करने में असमर्थ होता है, तो पहली टीम विजयी घोषित की जाती है। जो बल्ला उठाकर गेंद को मारकर रन बनाता है, उसे बल्लेबाज़ कहा जाता है।

जो व्यक्ति गेंद को बल्लेबाज़ की तरफ डालता अथवा फेंकता है और बल्लेबाज़ को आउट करने की कोशिश करता है, उसे गेंदबाज़ कहा जाता है। क्रिकेट के खेल में अगर बल्लेबाज़  गेंद को अपने बैट की सहायता से मारकर सीमा से बाहर भेज देती है।

गेंद भूमि से होकर बाउंड्री के पार चली जाती है, तो उसे चौका कहा जाता है। अगर बल्लेबाज़ गेंद को हवा में उछालकर उसे सीमा से बाहर भेज देता है, तब उसे छक्का कहते है। जो टीम सबसे अधिक रन बनाने में सफल होती है, वही विजयी टीम घोषित की जाती है।

बल्लेबाज़ चौका और छक्का ना मार सके, इसलिए मैदान में गेंद को पकड़ने के लिए फील्डर मौजूद होते है। क्रिकेट मैच कई प्रकार के होते है, जैसे टेस्ट मैच, वन डे, टी 20। आजकल ज़्यादातर लोग टी २० मैचेस को देखना ज़्यादा पसंद करते है।

टी २० मैच सिर्फ बीस ओवर के लिए खेली जाती है और निर्णय भी जल्द हो जाता है। यह मैच रोमांच से भरपूर होता है। वर्त्तमान में भारत, ऑस्ट्रेलिया, इंग्लैंड, अफ्रीका, पाकिस्तान, अफगानिस्तान  इत्यादि जैसे देशों में क्रिकेट बेहद लोकप्रिय है।

सन 1844 में अमेरिका और कनाडा के बीच पहला अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट खेल हुआ था। यह मैच न्यूयॉर्क के सेंट जॉर्ज क्रिकेट क्लब के मैदान में खेला गया था। क्रिकेट की शुरुआत फ्रांस में हुयी थी, तब क्रिकेट को अलग तरीके से खेला जाता था।

सूत्रों के अनुसार क्रिकेट जिसे हम आज खेलते है, उस खेल की शुरुआत इंग्लैंड में हुयी थी। इंग्लैंड से यह खेल संसार के सभी देशो में फैल गया। भारत में क्रिकेट पहली बार सन 1848  में मुंबई के ओरिएंटल क्लब में खेला गया था।

टेस्ट मैच एक ऐसा मैच है जो बहुत दिनों तक चलता है। वन डे में एक दिन में ही मैच ख़त्म हो जाता है। वन डे मैच का अलग ही उत्साह लोगो में देखा जाता है । इस तरीके के मैच में दोनों टीम को पच्चास ओवर तक खेलना होता था।

अब आम तौर पर लोगो को टी 20 मैचेस देखने का ज़्यादा शौक चढ़ा है, क्यों कि इसमें सिर्फ बीस ओवर तक दोनों टीमों को खेलना पड़ता है। टी 20  मैच का फैसला बहुत जल्द हो जाता है और रोमांच से भरपूर होता है। आजकल इंडियन प्रीमियर क्रिकेट लीग यानी आईपीएल मैचेस का पागलपन युवाओं में अक्सर देखा गया है।

यह प्रत्येक वर्ष अप्रैल या मई महीने में खेली जाती है। क्रिकेट खेल का आरम्भ इंग्लैंड में रहने वाले लोगो ने किया था। क्रिकेट सबसे पहले ऐसा खेल था जिसे अमीर इंग्लैंड वासियों और महाराजाओं द्वारा हिन्दुस्तान में खेला जाता था। भारत में क्रिकेट खेल का प्रारम्भ ईस्ट इंडिया कंपनी द्वारा हुआ था।

भारत में आज भी जैसे ही इंडिया और पाकिस्तान का मैच होता है, तो लोग अपना सब काम छोड़कर और दफ्तरों से छुट्टी लेकर क्रिकेट देखना पसंद करते है। लोगो का उत्साह मैच के दौरान देखने से ही मालूम पड़ जाता है। भारतीय  क्रिकेटर क्रिकेट खेलने के लिए दूसरे देशो में जाते है और दूसरे देशो से भी खिलाड़ी क्रिकेट खेलने यहाँ आते है।

क्रिकेट खेलने के लिए मैदान के बीचो बीच यानी सेंटर में एक पिच का निर्माण किया जाता है। पीच के दोनों तरफ विकेट लगाए जाते है। विकेटों के बीच की दूरी तकरीबन बाईस गज की होती है। क्रिकेट टीम के खिलाड़ी तब तक बल्लेबाज़ी करते है, जब तक ओवर समाप्त ना हो जाए या फिर सारे बल्लेबाज़ी कर रहे खिलाड़ी को विरोधी टीम आउट ना कर दे।

क्रिकेट खेल के महत्वपूर्ण फैसले जैसे खिलाड़ी आउट है या नहीं, नो बॉल है या नहीं इत्यादि फैसले अंपायर द्वारा लिए जाते है। क्रिकेट खेल के मैदान में दो अंपायर होते है और ज़रूरी परिस्थितियों में विशेष अंपायर का फैसला भी लिया जाता है, जिसे थर्ड अंपायर कहते है।

कलकता क्रिकेट क्लब, हिन्दुस्तान की प्रथम क्रिकेट संस्था का नाम था। एक प्रोफेसर ने सन 1878 में भारतीय क्रिकेट क्लब की स्थापना “प्रेसिडेंसी कॉलेज क्रिकेट क्लब” के नाम से की थी।

भारत के मशहूर क्रिकेटरो के नाम कुछ इस प्रकार है : सुनील गावस्कर, कपिल देव, सचिन तेंदुलकर, महेंद्र सिंह धोनी, वीरेंदर सहवाग, हरभजन सिंह, रोहित शर्मा, विराट कोहली इत्यादि। वर्त्तमान में भारतीय क्रिकेट टीम के कप्तान विराट कोहली और रोहित शर्मा उपकप्तान है।

लोकप्रिय क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर के फैंस सिर्फ भारत में ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया में मौजूद है। सचिन तेंदुलकर के मास्टर ब्लास्टर शॉट्स देखने के लिए लोग मैदान में जमा हो जाते है और टिकट खरीदने के लिए लम्बी कतारे लगाते है।

धोनी के हेलीकाप्टर शॉट्स के दीवाने और प्रसंशक हर जगह है। क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर और रोहित शर्मा ऐसे भारतीय खिलाड़ी है, जिन्होंने सबसे ज़्यादा शतक बनाये है । महेंद्र सिंह धोनी को आईपीएल का राजा कहा जाता है। आईपीएल में उनके टीम ने सबसे अधिक मैच जीते है।

शनिवार 2 अप्रैल 2011 को भारत ने क्रिकेट विश्व कप जीता था। फाइनल में श्रीलंका को भारत ने 6 विकेट से हराया था। यह फाइनल मैच मुंबई के वानखेड़े स्टेडियम में खेला गया था। सन 1983 में भारत ने वेस्ट इंडीज को हराकर अपना पहला वर्ल्ड कप जीता था।

कुल मिलाकर भारत ने दो बार वर्ल्ड कप अपने नाम किया है। इसके अलावा भी भारत ने कई चैंपियनशिप अपने नाम किये है और वर्ल्ड क्रिकेट में अपना नाम बनाया है। कभी कभी अत्यधिक वर्षा के कारण मैच को रद्द किया जाता है।

मैच में कई प्रकार के आउट होते है, जैसे कैच आउट, रन आउट, एलबीडबल्यू, हिट विकेट। आपको बता दे क्रिकेट का मैच ओवर के अनुसार खेला जाता है। एक ओवर में छह गेंद होते है। प्रत्येक टीम में अच्छे फील्डर्स होते है, जो मैच के दौरान बल्लेबाज़ द्वारा मारे हुए गेंद को रोकने की कोशिश करते है।

ऐसा वे इसलिए करते है, ताकि विरोधी टीम के बल्लेबाज़ रन ना बना पाए। अच्छे फ़ास्ट बॉलर और स्पिनर होते है, जो अच्छी गेंद डालकर विरोधी टीम के बैट्समैन को आउट करने की कोशिश में लगे रहते है।

विरोधी टीम के बल्लेबाज़ चौके और छक्के लगाने की कोशिश में रहते है, ताकि वह ज़्यादा रन बनाकर विरोधी टीम को चुनौती दे सके। मैडन ओवर उस ओवर को कहा जाता है, जिस ओवर में कोई रन नहीं बनता।

क्रिकेट खेल के आरम्भ में अंपायर पहले सिक्का उछालकर टॉस करती है। जो टीम टॉस जीतती है, उस टीम के कप्तान यह निर्णय लेते है कि कौन सा टीम पहले बैटिंग करेगा और कौन सी टीम बोलिंग। उसके बाद मैच की शुरुआत होती है। जो टीम बल्लेबाज़ी करती है, उस टीम के बल्लेबाज़ दोनों ओर खड़े हो जाते है।

विरोधी टीम के गेंदबाज़ और फील्डर गेंद को रोकने के लिए अपनी जगह ले लेते है। बल्लेबाज़ को गेंदबाज़ी करने वाली टीम की तरफ से गेंद  फेंका जाता है। फिर बल्लेबाज़ गेंद को स्ट्राइक कर रन लेने का आगाज़ करते है।

यही प्रक्रिया तब तक चलती है, जब तक ओवर ख़त्म नहीं होता अथवा बल्लेबाज़ों की टीम आउट ना हो जाए। जैसा की हम जानते है जो टीम अधिक रन बनाती है वही टीम विजयी कहलाती है।

अच्छे बल्लेबाज़ी के साथ अच्छी गेंदबाज़ी दोनों महत्वपूर्ण होते है, तभी टीम क्रिकेट मैच को जीत पाती है। अगर बल्लेबाज़ मैदान पर ज़्यादा देर टिक्कर रन बनाती है, तो गेंदबाज़ो पर अत्यधिक दबाव पड़ता है। ऐसा इसलिए कि जितना रनो का पहाड़ होगा, विरोधी टीम को उससे अधिक रन बनाना होगा।

अगर बल्लेबाज़ एक के बाद एक आउट हो जाते है, तब गेंदबाज़ो पर दबाव नहीं पड़ता है और रनो का लक्ष्य कम होने के कारण उनके यानी गेंदबाज़ी कर रहे टीम की मैच जीतने की सम्भावनाएँ बढ़ जाती है।

हिन्दुस्तान में रणजी ट्रॉफी, रानी झांसी ट्रॉफी, बजी ट्रॉफी, ईरानी ट्रॉफी, दिलीप ट्रॉफी ओर अब्दुल्ला गोल्ड कप के नाम से क्रिकेट की कई तरह की प्रतियोगिताएं आयोजित की जाती है। यह युवाओं को क्रिकेट खेल के प्रति प्रोत्साहित करने का अच्छा जरिया है।

वन डे मैच यानी एक दिवसीय मैच का निर्णय एक ही दिन में हो जाता है। टेस्ट मैच यानी पांच दिवसीय मैच, पांच दिनों तक चलता है। वन डे मैच में ओवर की संख्या निर्धारित होती है, जबकि पांच दिवसीय मैच में ओवरों की संख्या अनिश्चित और कभी कभी असीमित होती है।

टेस्ट मैच में कभी कभी खेल बिना हार -जीत के समाप्त हो जाती है। वन डे मैच का निर्णय एक दिन में हो जाता है। रनो की व्यवस्थित गणना के लिए एक स्कोर बोर्ड होता है, जिसे मैदान में खिलाड़ी और दर्शक देखते है। जैसे ही गेंदबाज़ एक खिलाड़ी को आउट करता है, तब मैदान में दूसरा खिलाड़ी खेलने के लिए आता है।

जब तक दस खिलाड़ी आउट ना हो जाए, तब तक यही प्रक्रिया चलती रहती है। उसके पश्चात दूसरी टीम खेलती है और पहले टीम के बनाये हुए रनो के लक्ष्य को पूरा करने में जुट जाती है।

अगर गेंदबाज़ तीन गेंदों पर तीन विकेट यानी तीन बल्लेबाज़ों को आउट करे, तो उसे हैट ट्रिक कहा जाता है। कभी -कभी गेंदबाज़ बैट्समैन को आउट करने के लिए आक्रामक हो जाते है और बाउंसर डालते है।

जिसके लिए विरोधी टीम को एक रन अधिक मिलते है। इसी तरह वाइड बॉल और नो बॉल होने पर भी बल्लेबाज़ टीम को एक रन अधिक मिल जाते है। इस प्रकार के फैसले अंपायर करते है।

अंपायर के कुछ विशेष संकेत होते है, जिसे सारे खिलाड़ी और दर्शक देखकर समझ पाते है। जैसे अगर खिलाड़ी छक्का लगाए, तो अंपायर अपने दोनों हाथ ऊपर खड़े कर देता है।अगर अंपायर अपने हाथ को आगे घुमाता है, तब समझ लीजिये कि बल्लेबाज़ ने चौका लगाया है।

अंपायर के निर्णय का कोई भी खिलाड़ी विरोध नहीं कर सकता है। क्रिकेट खेल के कुछ नियम होते है, जिसका पालन उन्हें निश्चित रूप से करना होता है। क्रिकेट के खिलाड़ी को प्रत्येक पल सतर्क रहना पड़ता है, क्यों कि थोड़ी सी भी गलती महंगी पड़ सकती है।

क्रिकेट में अंतिम क्षणों तक यह दुविधा बनी रहती है कि कौन से टीम जीतेगी और कौन सी टीम हारेगी। क्रिकेट खेल के दीवाने हर क्षेत्र से हमे मिल जाएंगे, चाहे वह नेता हो या अभिनेता, लड़का -लड़की, दफ्तर में काम करने वाले इत्यादि सभी लोग शामिल है।

भारत में हर दूसरा आदमी क्रिकेट प्रेमी है। क्रिकेट कितना मशहूर है इसका अंदाज़ा इस बात से लगाया जाता है कि लोग दफ्तर जाते समय मोबाइल, रेडियो इत्यादि पर क्रिकेट के स्कोर्स जानने के लिए बेताब रहते है।

अगर ज़रूरी मैच देखना हो तो कुछ कर्मचारी अपने दफ्तर से बहाना बनाकर छुट्टी ले लेते है। रास्ते पर चलते हुए कहीं पर भी टीवी दिख जाए तो वहां लोग इक्कट्ठा होकर क्रिकेट मैच देखने लग जाते है। जहां क्रिकेट मैचेस खेले जाते है, वहां टिकट खरीदने के लिए लोगो की लम्बी कतारे लग जाती है।

क्रिकेट एक ऐसा अंतराष्ट्रीय लोकप्रिय खेल है, जिसे लोग खेलना और देखना पसंद करते है। क्रिकेट जैसा खेलकूद स्वास्थ्य के लिए लाभदायक होता है। आजकल स्कूल, कॉलेज, गली मोहल्ले में क्रिकेट खेला जाता है। बच्चे कम उम्र से स्कूल के मैदानों में क्रिकेट खेलते है।

क्रिकेट को जेंटलमैन खेल कहा जाता है। क्रिकेट को भारत में उंचाईयों की श्रेणी तक पहुंचाने का श्रेय क्रिकेटर सचिन, सुनील गावस्कर, धोनी, विराट और कपिल देव इत्यादि को जाता है। क्रिकेट एक मनोरंजक खेल है, जो मानसिक और शारीरिक रूप से खिलाड़ी को स्वस्थ रखता है। अंतराष्ट्रीय क्रिकेट में भारतीय क्रिकेट टीम बेहद लोकप्रिय है।


तो यह था मेरा प्रिय खेल क्रिकेट पर निबंध, आशा करता हूं कि मेरा प्रिय खेल क्रिकेट पर हिंदी में लिखा निबंध (Hindi Essay On Mera Priya Khel Cricket) आपको पसंद आया होगा। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा है, तो इस लेख को सभी के साथ शेयर करे।

Sharing is caring!

Leave a Comment