मेरा देश पर निबंध (Mera Desh Essay In Hindi)

आज के इस लेख में हम मेरा देश पर निबंध (Essay On Mera Desh In Hindi) लिखेंगे। मेरा देश पर लिखा यह निबंध बच्चो और class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए लिखा गया है।

मेरा देश पर लिखा हुआ यह निबंध (Essay On Mera Desh In Hindi) आप अपने स्कूल या फिर कॉलेज प्रोजेक्ट के लिए इस्तेमाल कर सकते है। आपको हमारे इस वेबसाइट पर और भी कही विषयो पर हिंदी में निबंध मिलेंगे, जिन्हे आप पढ़ सकते है।

मेरा देश पर निबंध (Mera Desh Essay In Hindi)


प्रस्तावना

विश्व भर में मेरा देश भारत महान की उपाधि हासिल किए हुए हैं। हर तरीके से भारत का नाम चारों दिशाओं में रोशन है। भारत में बने पर्यटक स्थल और ऐतिहासिक दुर्गा भारत की एक अलग पहचान बनाते हैं।

मेरा देश इतिहास की वजह से बहुत ज्यादा लोकप्रिय है। इतिहास के समय भारतीय परंपरा विश्व भर में विख्यात थी। आज भी भारत का नाम विश्व के बेहतरीन देशों में लिया जाता है। मेरा भारत जहां ऊंचा खड़ा हिमालय आसमान को छूता है।

तो दूसरी तरफ विचरण तले गंगा यमुना जैसी नदियां बह रही है। मेरे देश की यह भूमि मेरे लिए पुण्य भूमि, स्वर्ण भूमि,  जन्म भूमि,  मातृभूमि, कर्मभूमि है। और आज मेरे देश के बारे में बताते हुए मुझे गर्व महसूस हो रहा है।

विश्व भर में विख्यात मेरा देश दुनिया का चमकता हुआ सूरज है। मेरा देश अपनी संस्कृति और सभ्यता के दम पर विश्व भर में लोकप्रिय हुआ है। मेरे देश को पुराने समय में सोने की चिड़िया कहा जाता था।

भारत सबसे प्राचीन सभ्यताओं वाला देश है और इन्हीं प्राचीन सभ्यताओं के कारण भारत सोने की चिड़िया कहलाता था। साथ ही विश्व भर में लोकप्रिय देश था।

शिक्षा के क्षेत्र में भी मेरा देश कई हदो तक सबसे आगे हैं। मेरे देश में विज्ञान, गणित, धर्म, दर्शन, साहित्य, मानवतावादी संस्कृति और चिकित्सा का शंखनाद सबसे पहले हुआ था। वर्तमान समय में मेरे देश का नाम भारत और अंग्रेजी में इंडिया है। आज भी मेरा देश ज्ञान, विज्ञान, तकनीकी सूचना, संचार और नए अविष्कार में सबसे आगे है।

मेरे देश की भौगोलिक सरचना

संसार के मानचित्र में मेरा देश उत्तरी गोलार्ध में स्थित है। मेरा देश उत्तरी गोलार्ध में एक विशाल देश है। जो 84 डिग्री उत्तरी अक्षांश और 68.7 डिग्री पूर्वी देशांतर से 97.25 डिग्री पूर्वी देशांतर के बीच फैला हुआ है।

उत्तर से दक्षिण की लंबाई मेरे देश की 3214 किलोमीटर है और मेरे देश की पूर्व से पश्चिम की लंबाई की बात की जाए, तो यहां लंबाई 2933 किलोमीटर है।

मेरा देश क्षेत्रफल की दृष्टि से संसार का सातवा बड़ा देश है। जनसंख्या की दृष्टि से दूसरा सबसे बड़ा देश है। मेरे देश का क्षेत्रफल 3287263 वर्ग किलोमीटर है। इतना विशाल क्षेत्र पर जो दूसरे देशों की तुलना में कई गुना बड़ा है। उदाहरण के तौर पर बात की जाए, तो मेरा देश यूरोप से 7 गुना बड़ा है व ब्रिटेन से 13 गुना बड़ा है।

भारत का उत्तरी राज्य जिसे कश्मीर के नाम से जानते हैं। यहां पर हिमालय की बर्फीली चोटियां चांदी के समान चमकती है और मेरे देश का मुकुट बनाती है। मेरे देश का दक्षिण क्षेत्र उष्णकटिबंधीय सघन वनों से घिरा हुआ है। दक्षिण में मेरा देश तीन तरफ से समुद्र से गिरा हुआ देश है।

जिसकी एक तरफ बंगाल की खाड़ी, दूसरी तरफ अरब सागर और बीच में हिंद महासागर है। भारत देश की सीमाएं प्राकृतिक और मानव निर्मित है। जैसा कि भारत और चीन की सीमा प्राकृतिक सीमा है। यह दोनों देश हिमालय से आपस में विभाजित होते हैं।

मेरे देश के कई पड़ोसी देश है। जिनकी सीमाएं लगी हुई है। इनमें अफगानिस्तान, पाकिस्तान, चीन, म्यानमार, भूटान और बांग्लादेश शामिल है। कैलाश पर्वत तथा मानसरोवर जैसे बड़े तीर्थ स्थल तिब्बत में स्थित है। मतलब यह है, कि राजनीतिक दृष्टि से देखा जाए तो यह तीन का हिस्सा है। लेकिन भारत के साथ उनके सांस्कृतिक संबंध हैं।

प्रकृति द्वारा भारत को चार अलग-अलग हिस्सों में विभाजित किया गया है।

  1.  उत्तर का पर्वतीय व पठारी क्षेत्र
  2.  उत्तर का मैदान
  3.  प्रायद्वीपीय पठारी भाग
  4.  समुद्र तटीय मैदान

हमारे देश में कई प्रकार की अलग-अलग मीडिया वाले हर तरह के क्षेत्र में पाए जाते है और चीनी मिट्टी के आधार पर अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग फर्स्ट फ्लोर और पेड़-पौधों का होना संभव हो पाया है। मतलब यह है, कि प्राकृतिक विविधता में भारत अपना महत्वपूर्ण योगदान रखता है।

भारत में कई प्रकार की मिट्टियां है, जैसे जलोढ और काली, लाल मिट्टी, बलुआ मिट्टी इत्यादि मिट्टिया मुख्य रूप से पाई जाती है। मेरे देश में सामान्यतः मानसूनी जलवायु उपलब्ध है। इस बीच में मुख्य तौर पर 3 मौसम है। परंतु यहां चार ऋतु है जो मिलकर इन तीन मौसम का निर्माण करती है

  1.  शीत ऋतु (15 दिसम्बर से 15 मार्च)
  2.  ग्रीष्म ऋतु (15 मार्च से 16 जून)
  3.  वर्षा (16 जून से 15 सितम्बर)
  4.  शरद (16 सितम्बर से 15 दिसम्बर)

विश्व के स्तर पर भारत

मेरा देश भारत जो विश्व का सातवां क्षेत्रफल की दृष्टि से बड़ा देश है और जनसंख्या की दृष्टि से दूसरा बड़ा देश है। मेरा देश भारत विश्व का प्रजातांत्रिक देश है हमारा देश धर्मनिरपेक्ष देश है। मेरा देश तीसरा विश्व का अजूवा राष्ट्र है जिसका अपना कोई राजधर्म नहीं है।

मेरे देश में भाषाएं अलग अलग क्षेत्र में अलग-अलग बोली जाती है। देश में करीब 56 भाषाएं बोली जाती है। जिनमें से 26 भाषाओं को मान्यता मिली हुई है। मेरा देश बहू संस्कृति वाला देश है और विश्व की प्राचीन सभ्यता और संस्कृति का विकास मेरे देश से ही हुआ है।

भारत देश में चित्रकला, मूर्तिकला और अस्तित्व सविता पुराने जमाने से शुरू हो चुकी है और इन्हीं पुरानी कलाओं के नाम पर विश्व में भारत की छाप आज भी बनी हुई है। भारत में कई अलग अलग  शैलियां जैसे पाल शैली, गुजरात शैली, जयंत शैली, कांगड़ा शैली, राजपूत कालीन शैली, पहाड़ी शैली, चित्रकला शैली, मधुबनी शैली, पटना शैली, गढ़वाल शैली इत्यादि है।

भारत में कई प्रकार के लोकप्रिय मंदिर जैसे सूर्य कोणार्क मंदिर, जगन्नाथ मंदिर, जैन मंदिर जो आज के समय में बहुत ही प्रसिद्ध है। इसके अलावा कई ऐसे पर्यटक स्थल है जो मुगलकालीन में स्थापित किए गए थे। जैसे ताज महल, लाल किला, कुतुब मीनार, बुलंद दरवाजा, गोल गुबंद इत्यादि विश्व भर में विख्यात है।

भारत की हड़प्पा संस्कृति जहां से कई प्रकार की प्राचीन मूर्तियां प्राप्त हुई है, जो काफी लोकप्रिय है। इसके अलावा भारत में अनेक धर्मों के लोग निवास करते हैं। जैसे हिंदू, बौद्ध, जैन, सिख, मुस्लिम इत्यादि।

भारत का साहित्य संगीत और नृत्य और कला की परंपरा

भारत देश विश्व भर में गौरवशाली और समृद्ध सांस्कृतिक देश माना जाता है। यहां पर विरासत में कई प्रकार के वेद उपनिषद महाभारत गीता, रामायण की रचनाएं हुई है। हमारे देश में कई महान कवि थे, जैसे कालिदास, जयदेव, तुलसीदास, सूरदास जिन्होंने अपने जीवन में कई रचनाएं की है।

इन कवियों द्वारा अलग-अलग भाषाओं में विशिष्ट व मौलिक रचनाएं रची गयी है। मेरे देश में खगोल गणित और आयुर्वेद संबंधित अन्य कई प्रकार की रचनाएं भी हुई है। वैज्ञानिक व गणितीय दृष्टि से आर्यभट्ट वैज्ञानिक ने कई प्रकार की महत्वपूर्ण इकाइयां जैसे पाई, साइन, कोसाइन की खोज की है, तो शून्य तथा दशमलव पद्धति का अविष्कार भी किया हैं।

भारत के संस्कृति में संगीत का वर्गीकरण राष्ट्र और ताल काफी लोकप्रिय है। जिसे स्वर्ग संगीत और विभाग संगीत में अलग-अलग रूप से बांटा गया है। हिंदुस्तानी संगीत और कर्नाटक संगीत यह दोनों पद्धतियां भारतवर्ष में प्रचलित है। भारत में संगीत को सात स्वर के आधार पर 8 प्रहरो में बांटा गया है।

भारत में कई प्रकार के लोक नृत्य जैसे गरबा, भांगड़ा, बड़वानी, घूमर, सुख इत्यादि बहुत ही लोकप्रिय और प्रसिद्ध है। भारतीय नृत्य कला विश्व भर की सबसे विख्यात कला है। यहां पर नृत्य को मुद्रा, रूप, सौंदर्य, भाव, ताल और राय के साथ किया जाता है।

इसमें अलग-अलग क्षेत्रों में अलग-अलग नृत्य परंपरा और शैलियां प्रसिद्ध है। भारत के दक्षिण में भरतनाट्यम शैली, कुचिपुड़ी शैली, कथकली शैली प्रसिद्ध हैं। भारत में ओडिसी नृत्य शैलियां भी प्रसिद्ध हैं। तो उत्तर में कत्थक शैली काफी लोकप्रिय है और पूर्व में मणिपुरी शैली काफी लोकप्रिय है।

भारत का प्रशासनिक रूप

वर्तमान समय की बात की जाए, तो भारत कई राज्यों का एक सघ है। भारत एक लोकतांत्रिक देश है। मेरे देश में गणराज्य रूप से 28 राज्य और 9 केंद्र शासित प्रदेश है। इन सभी राज्य और केंद्र शासित प्रदेशों में संसदीय प्रणाली के अनुसार सरकार चल रही है।

भारतीय संविधान में कई प्रकार के मौलिक अधिकार दिए गए हैं। जिनमें से कुछ मौलिक अधिकार नीचे निम्नलिखित रुप से दिए गए हैं।

  1.  समानता का अधिकार
  2.  सामाजिक आर्थिक समानता तथा स्वतन्त्रता शोषण के विरुद्ध अधिकार
  3.  उतेक्षण लेख
  4.  अधिकार पृच्छा लेख

भारतीय संविधान द्वारा दिया गया यह मौलिक अधिकार जनता के हित में है और जनता द्वारा अपनी आवाज को उठाने और स्वतंत्र रूप से हर प्रकार के कार्य करने की छूट इन मौलिक अधिकार के अंतर्गत दी गई है।

संविधान में मौलिक कर्तव्यों के रूप में संविधान का पालन करना, राष्ट्रीय ध्वज और हमारे राष्ट्रीय गान का सम्मान करना है। इसके साथ ही देश की अखंडता और एकता की रक्षा करना मुख्य रूप से है।

भारतीय संसद राष्ट्रपति और दोनों सदनों को जोडनेपर बनती है। भारतीय संविधान में केंद्र और राज्यों के बीच अलग-अलग हिसाब से शक्ति का बंटवारा किया गया है। ताकि केंद्र में अलग पार्टी की सरकार होने और राज्य में अलग पार्टी की सरकार होने के बावजूद भी देश और राज्य का विकास निरंतर चलता है।

भारत में कुल 9 केंद्र शासित प्रदेश है जहां पर राष्ट्रपति का शासन चलता है।

उपसंहार

मेरा देश भारत महान है, मेरा देश भारत जिसकी पहचान महान संस्कृति और सभ्यता के कारण है। धर्मनिरपेक्षता के आधार पर मेरा देश दुनिया का सबसे बड़ा लोकतांत्रिक देश माना जाता है।

मेरा देश हर क्षेत्र में लगातार ऊंचाइयां हासिल कर रहा है। चाहे वह अंतरिक्ष विज्ञान क्षेत्र हो, शिक्षा का क्षेत्र हो, तकनीकी क्षेत्र हो या कोई अन्य क्षेत्र हो। यहाँ हर क्षेत्र में देश के विद्यार्थी और व्यक्ति ऊंचाइयां छू रहे हैं और मुझे अपने देश पर गर्व है।

इसे भी पढ़े :- मेरा भारत देश महान पर निबंध (Mera Bharat Desh Mahan Essay In Hindi)


मेरा भारत देश पर निबंध (Mera Bharat Desh Essay In Hindi)


मेरे देश का नाम भारत हैं, यह एक लोकतांत्रिक देश हैं। यहाँ सभी जाति धर्म को समान अधिकार हैं और इसी लिए हमे मेरे देश भारत पर गर्व है। मेरे देश का राष्ट्रीय चिंन्ह तिरंगा है जिसमे तीन रंग होते हैं, केसरिया रंग, सफेद रंग और हरा रंग होता है।

सभी रंगों का कुछ विशेष गुण हैं, मेरे देश के तिरंगे में केसरिया रंग साहस और बलिदान का प्रतीक है और सफेद रंग पवित्रता, सच्चाई और शांति का प्रतीक है और हरा रंग सम्पन्नता और प्रगति का प्रतीक हैं।

तिरंगा हमारे देश की शान हैं, जिसके लिए हमारे देश के कितने वीर जवान अपनी जान निर्चावर कर गए और हम सभी उनका सम्मान करते है। हमारे देश में सभी जाती धर्म के लोग स्वतंत्र रहते हैं, सभी को अपना अपना त्योहार मनाने का पुरा हक दिया जाता हैं और सभी के त्योहार में हमे स्कूल कॉलेज से छुट्टियाँ दी जाती है।

हम सभी अपने देश मे भाई – भाई के तरह रहते हैं, इसे हमारे देश के शक्ति का प्रतीक भी कहा जाता हैं। मेरे देश मे जंगल का राजा शेर को राष्ट्रिय पशु कहाँ जाता है और जंगल की सबसे सुंदर पक्षी मोर को राष्ट्रिय पक्षी कहाँ जाता हैं।

मेरे देश भारत के पच्छिम में अरब सागर और पाकिस्तान देश है और पूरब में बंगाल की खाड़ी और बँगला देश है। उत्तर में हिमालय पर्वत और नेपाल, चीन और भूटान देश है। तथा दक्षिण में हिन्द महासागर और श्रीलंका हैं ।

मेरा देश कृषि प्रधान देश हैं हमे कभी भी अन्न की कमी नही होती है। हमारे देश मे बहुत ज्यादा किसान है और वो अनाज, फल और सब्जियों का हमारे लिए उपज करते हैं। हमारे देश का अनाज, फल और सब्जीया दुनिया के कई देशों में भी जाता है, जिससे उनका पेट भरता है।

मेरे देश के किसान ने दुनिया में अपना नाम रौशन किया है। यहाँ खेती करने के लिए आधुनिक तकनीक का इस्तेमाल किया जाता हैं। मेरे देश की सिमा अनेक देशो से लगी हुइ है, जो हमारे देश के विभिन्न हिस्सो से होकर गुजरती है।

भारत की नेपाल के साथ 1751 किलोमीटर तक सिमा है, जो बिहार, उत्तराखंड, उत्तरप्रदेश, पश्चिम बंगाल और सिक्किम से हो कर गुजरती हैं। भारत की भूतान के साथ 699 किलोमीटर तक सिमा है, जो पश्चिम बंगाल, असम, अरुणाचल प्रदेश ओर सिक्किम से होकर गुजरती है।

मेरे देश की सिमा अफगिस्तान के साथ 106 किलोमीटर तक है, जो जम्मू कश्मीर से हो कर गुजरती हैं। भारत और बंगला देश के साथ 4096 किलोमीटर तक सिमा है, जो मेघालय, पश्चिम बंगाल,असम, त्रिपुरा और मिजोरम से होते हुए गुजरती हैं।

भारत और चीन के साथ 4057 किलोमीटर तक सिमा है, जो जम्मू कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखण्ड, सिक्किम और अरुणाचल प्रदेश से हो कर गुजरती है। भारत और पाकिस्तान के बीच 2912 किलोमीटर की सीमा हैं, जो गुजरात, राजस्थान, जम्मू कश्मीर और पंजाब से हो कर गुजरती हैं।

मेरे देश की सभी सिमा पे हमारे देश के सैनिक सिमा की सुरक्षा के लिए हमेशा तैनात रहते है, जो भारत माँ की रक्षा करते है और हम सभी अपने देश मे शांति से और बेफिक्र हो कर रहते है।

मेरे देश के सभी निवासी संस्कृति का बहुत आदर करते हैं। हमारे यहाँ औरतो की साड़ी पहनने की सभय्ता है जो औरत को और सुन्दर बनाती है। हमारे देश की औरत सदी पहनकर सुंदर भी लगती है। हमारे देश की शक्ति ओर परम्पराओ को देखने कई विदेशी नागरिक भी आते हैं।

हमारे देश मे 15 अगस्त और 26 जानवरी को रास्ट्रीय त्योहार मनाया जाता है। मेरा देश अंग्रेजो की गुलामी में था और अंग्रेज भारत पे राज करते थे, लेकिन हमारे देश के वीर जवान और ईमानदार नेताओ ने मिल कर 15 अगस्त 1947 को अंग्रेजो को मार भगाया था और अपने देश को आजादी दिलायी थी।

इसीलिए 15 अगस्त को स्वंतत्रता दिवस के रूप में मनाते है और 26 जनवरी 1950 को भारत मे संबिधान लागू हुआ था। इससे पहले अंग्रेजो द्वार लगाये गये नियमो का पालन किया जाता था। वह नियम जनता के हित मे नही थे, इसी लिए कहा जाता है 26 जनवरी को हमे पूर्णतः आजादी मिली थी और इस दिन को गणतंत्र दिबस के रूप में मनाया जाता हैं।

मेरे देश मे घूमने के लिए बहुत सारे ऐतिहासिक स्थल भी है, जैसे लाल किला ओर ताज महल। कहाँ जाता है कि ताज महल शाहजहा ने अपनी बेगम मुमताज के लिए बनवाया था। यह आगरा में है और इसे देखने के लिए देश -विदेश के अलग अलग जगहों से बहुत सारे नागरिक आते है। यह दुनिया के ७ अजूबो में से एक है और इसे प्यार का भी प्रतीक भी कहा जाता है ।

हमारे भारत देश को सोने की चिड़ियाँ कहा जाता था और इसी लिए अंग्रेजो ने हमे गुलाम बनाया था और मेरे देश का विकास होने में बाधा डाली थी। उससे हमारा देश बहुत ही पिछड़ा देश हो गया था।

लेकिन आज फिर से भारत देश को एक विकाशिल देश माना जाता है। हमारे देश में सभी चीजों की सुविधा है और हम इसे और आगे बढ़ाएंगे। हमारे देश मे युवाओ की संख्या ज्यादा है और सभी अपने देश के विकास में जुड़े हुए है। इससे हमारा देश हर दिन एक नई ऊँचाई पर आगे बढ़ता जा रहा है और हमे इससे खुशी होती है।

हमे अपने देश के विकास में दिल से सहयोग करना चाहिए। मेरा देश आगे बढ़ रहा है लेकिन हम सब मिलकर इसे दुनियाँ का सबसे ज्यादा विकसित देश बनाएंगे। भारत देश को सोने की चिड़िया कहा जाता था, हम सब फिर इसे सोने की चिड़ियाँ बनाएंगे। मेरे देश महान था ओर महान रहेगा हम इसे कभी झुकने नही देंगे।


तो यह था मेरा देश पर निबंध, आशा करता हूं कि मेरा देश पर हिंदी में लिखा निबंध (Hindi Essay On Mera Desh) आपको पसंद आया होगा। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा है, तो इस लेख को सभी के साथ शेयर करे।

Sharing is caring!

Leave a Comment