मानवता पर निबंध (Humanity Essay In Hindi)

आज हम मानवता पर निबंध (Essay On Humanity In Hindi) लिखेंगे। मानवता पर लिखा यह निबंध बच्चो (kids) और class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए लिखा गया है।

मानवता पर लिखा हुआ यह निबंध (Essay On Humanity In Hindi) आप अपने स्कूल या फिर कॉलेज प्रोजेक्ट के लिए इस्तेमाल कर सकते है। आपको हमारे इस वेबसाइट पर और भी कही विषयो पर हिंदी में निबंध मिलेंगे, जिन्हे आप पढ़ सकते है।


मानवता और इंसानियत पर निबंध (Humanity Essay In Hindi)


प्रस्तावना

मानवता यानी इंसानियत, मनुष्यता। मानवता यानी मनुष्य के मन में दया भाव का होना। यह दया भाव इंसान का इंसानो और दूसरे जीवो के लिए होता है। मानवता जैसी भावना रखने वाले मनुष्य दूसरो का हमेशा भला करते है। मनुष्य ही संसार में एक ऐसा प्राणी है जो सभी भावनाओ को समझ सकता है।

मनुष्य को इंसानियत यानी मानवता जैसी भावनाओ को अपने दिलों में रखना चाहिए। आजकल मानवता इतनी शर्मसार हो गयी है कि लोग अपनों का नुकसान करने में पीछे नहीं हटते है। परोपकार और भलेमानस के गुण लोगो को मानवता की राह पर ले जाते है।

मानवता जैसे भाव रखने वाले लोग इस समाज को एक दूसरे के संग जोड़कर रखते है। ऐसे लोग बिना स्वार्थ के लोगो का भला करते है। ऐसे लोग समाज में प्रेम और भाईचारे का पाठ पढ़ाते है। मनुष्य को ईश्वर ने बोलने की शक्ति प्रदान की है। मनुष्य अपने मन के हर तरह के भावो को प्रकट कर सकता है।

इसलिए मनुष्य को अपने आप में इंसानियत हमेशा जिन्दा रखनी चाहिए। ज़रूरतमंदो की मदद करनी चाहिए और अपनों को सहारा देना चाहिए। आजकल मनुष्यो में संवेदनहीनता और मानवीयता की कमी देखी गयी है। दुनिया में अनगिनत समस्याएं और परेशानियां है, इसलिए मनुष्य को परोपकारी होना ज़रूरी है। संसार को मानवता की आवश्यकता है।

मानवता की आवश्यकता क्यों है?

कई देशो में गरीब लोगो और बच्चो पर अत्याचार किये जाते है। गरीबो का शोषण नहीं करना चाहिए। गरीब और गरीबी रेखा से नीचे जीने वाले लोगो के प्रति दया भाव रखना चाहिए, क्योकि वह भी इंसान है।

लोग आजकल अपने स्वार्थ और अशिक्षा के कारण गैर कानूनी कार्य कर रहे है। बाल शोषण, चोरी डैकती, खून खराबा इत्यादि अपराध हो रहे है। ऐसे में इस दुनिया को मानवता की ज़रूरत है। गरीब मज़दूरों को ज़रूरत से ज़्यादा काम करवाया जाता है, उन्हें पूरे पैसे भी नहीं मिलते है।

उनकी हालत दयनीय हो गयी है। आजकल धन वान लोगो ने भी जैसे मानवता खो दी है। उद्योगों के मालिकों में गरीब मज़दूरों के प्रति रहम होना चाहिए, मगर ज़्यादातर मामलो में मानवता की कमी देखी गयी है।

कई स्थानों पर मज़दूरों से पशुओं की तरह कार्य करवाया जाता है। समाज में आये दिन हत्या, लूटपाट जैसे अपराधो का सिलसिला बढ़ता चला जा रहा है। इससे पता चलता है कि मानवता समाप्त हो रही है। कई मनुष्यो ने जानवरो के प्रति बुरा बर्ताव करके भी इंसानियत खो देने का काम किया है।

आयेदिन लोगो का अधिकार छीनकर लोग रिश्वतखोरी जैसे अपराधो में संलग्न हो रहे है। जिस प्रकार समाज में अपराधों की संख्या बढ़ रही है, उससे यह समझा जा सकता है कि दुनिया से मानवता खत्म होती जा रही है।

महिलाओं के साथ अपराधो की गिनती रुकने का नाम नहीं लेती है। बलात्कार, हत्या, यौन शोषण, इत्यादि घिनौने अपराध हर मिनट हो रहे है। इंसानियत जैसे शर्मसार हो गयी है।दुनिया में मिटती हुयी मानवता चिंता का विषय बन गयी है। क्यों लोग अपना संयम खोकर गलत अपराध कर रहे है और मासूम लोगो को नुकसान पहुंचा रहे है।

मानवता कैसे व्यक्त होती है?

अगर रास्ते में कोई आदमी जख्मी हालत में पड़ा है तो उसे तुरंत अस्पताल में दाखिल करवाना मानवता की पहचान है। मानवता जताने के लिए गरीब भूखे इंसान को खाना खिलाया जाता है। अगर कोई वृद्ध इंसान रास्ता पार नहीं कर पा रहा है तो उसे सड़क पार करवा सकते है।

मनुष्य समाज में रह रहे लोगो की मदद करके अपनापन जता सकते है। ऐसे उदाहरणों से मानवता का परिचय मिलता है। जिन्दगी में बेबस लोगो की सहायता करके, हम अपने मन में संतुष्टि ला सकते है और इंसानियत को जगा सकते है। सफल जीवन और सभ्य समाज के निर्माण के लिए मानवता की ज़रूरत है।

शाकाहारी बनने की कोशिश करे

लोगो को माँसाहारी से बदलकर शाकाहारी बनने की ज़रूरत है। लोग अपने स्वार्थ और अपने भूख को मिटाने के लिए मांस खाना पसंद करते है। लोगो को शाकाहारी बनने की कोशिश करनी चाहिए।

अगर मनुष्य पौष्टिक आहार और प्रोटीन प्राप्त करने के लिए मांस का सेवन करते है, तो प्रोटीन प्राप्त करने के दूसरे तरीके भी है। पशुओं को मार कर खाने से बेहतर है हम अपनी मानवता दिखाए। दूसरे स्रोतों के माध्यम से प्रोटीन प्राप्त करने की चेष्टा करें।

प्रेम भाव का पैगाम भेजकर

समाज से नकारात्मक सोच को मिटाना चाहिए। नफरत से यह संसार नहीं चल सकता है। कई गरीब लोगो के पास खाने के लिए भोजन, रहने के लिए छत इत्यादि नहीं है। ऐसे में हमे उनकी मदद करनी चाहिए। आजकल कुछ लोग लड़ने और लड़ाने जैसी चीज़ें करते है। यह निंदनीय है।

लोगो को इंसानियत दिखाते हुए इन सबसे ऊपर उठकर प्रेम सन्देश समाज में फैलाना चाहिए। किसी व्यक्ति को धर्म, जाति इत्यादि मानकर लोगो में भेदभाव नहीं करना चाहिए। समाज को मानवता से सींचने की आवश्यकता है।

मनुष्य को सभी प्राणियों की मदद करनी चाहिए। इससे समाज में अच्छे विचार पनपते है। लोगो को आत्मविश्लेषण कर मानवता के पथ पर अग्रसर होना चाहिए। दूसरो को तकलीफ में देखकर जिन्हे तकलीफ हो वह मानवता कहलाती है।

समय रहते लोगो को माफ़ करना

लोगो को उनकी भूल के लिए माफ़ कर देना, मानवता का परिचय है। ऐसा कई बार देखा गया है कि लोगो ने गलत काम किया तो अन्य लोग उसका बदला लेने पर उतारू हो जाते है। ऐसा नहीं करना चाहिए, ऐसे में लोगो को माफ़ कर देना चाहिए। माफ़ करना भी मानवता की पहचान है। माफ़ करने से लोग बड़े बनते है।

ईश्वर का आभारी होना

ऐसे देखा गया है की कई लोगो के पास सब कुछ होता है, फिर भी छोटे छोटे समस्याओं से वे परेशान हो जाते है। ऐसे लोग अपना धैर्य खो देते है और भगवान् को कोसते रहते है। लोगो को अपने मन में संतुष्टि लानी ज़रूरी होती है। भगवान का हमेशा लोगो को आभारी होना चाहिए।

मानवता ख़त्म होती जा रही है

आजकल के इस औद्योगिक जगत में लोग काफी व्यस्त रहते है। यह कहना ना गलत होगा कि लोग तेज़ी से सफलता और उन्नति पाना चाहते है। उनमे भावनाओ की कमी देखी जा सकती है। वह स्वार्थी बन गए है। उनमे जैसे मानवता और इंसानियत खत्म हो गयी है। पैसे कमाने के अलावा उन्हें कुछ और नज़र नहीं आता है।

अपराधो और बढ़ता हुआ भ्रष्टाचार

आये दिन जुर्म बढ़ रहे है। कुछ लोग हिंसक प्रवृति के बन गए है। अखबारो की सुर्ख़ियों में आयेदिन अपराधो की चर्चा अधिक रहती है। राजनीति तो भ्रष्टाचार से लिप्त है और पीढ़ियों से चल रही है। इन सबने मनुष्य के हक़ को मारा है और ज़रूरतमंद गरीब लोगों को भुगतना पड़ता है। ऐसे में मानवता जैसे खत्म होती हुयी नज़र आती है।

मदर टेरेसा के नेक काम और लोगो के प्रति दया भाव

मदर टेरेसा, जैसे कि हम सब जानते है कि वह मानवता की मूरत थी। मदर टेरेसा ने विश्व युद्ध की जब घटना सुनी तो वह बेहद आहात हुयी। उन्होंने तब लोगो की मदद करने का फैसला किया। उन्होंने दिल से गरीब और ज़रूरतमंद लोगो की सेवा की।

उन्होंने बेबस और लाचार लोगो के लिए मिशनरीज ऑफ़ चैरिटी की शुरुआत की थी। उन्होंने कुष्ट रोगियों के लिए भी बहुत किया था। उनके अच्छे और समाज के प्रति महान कामो के लिए उन्हें आज भी याद किया जाता है। उन्हें इतने अच्छे कार्य करने के लिए पदमश्री पुरस्कार दिया गया था। इसके अलावा महात्मा गाँधी, बराक ओबामा जैसे लोगो ने भी मानवता की लौ को बुझने नहीं दिया।

जिन्दगी में ऐसे कुछ काम करे कि लोग उसे याद रखे

जीवन में बहुत लोगो के पास धन और पैसे होते है। उससे वह गरीब और बेसहारा लोगो की मदद कर सकते है। लोगो को दुनिया में मानवता व्यक्त करने के लिए नेक काम करने चाहिए, ताकि लोग उन्हें याद रखे।

इंसान जब जाता है तो किसी भी तरह का वस्तु या पैसे अपने संग लेकर नहीं जाता है। संसार में मनुष्य को अपने बड़ो से अच्छा बर्ताव करना चाहिए। बड़ो का सम्मान और छोटो से प्यार करना चाहिए। दूसरो की सहायता करना इंसानियत कहलाता है।

मनुष्य का कर्त्तव्य है कि वह प्यासे को पानी पिलाये और भूखे को भोजन करवाए , यह मानवता की पहचान है। दुनिया में कई लोग ऐसे है जिन्होंने अच्छे और भले काम किये है, उनके काम को आज भी याद किया जाता है।

महात्मा गाँधी और नेता जी ने देश को स्वतंत्र करने के लिए कई बलिदान दिए थे। उन्होंने अपनी इच्छाएं छोड़ लोगो के बारें में सोचा और आज़ादी के लिए लड़े। यह मानवता की पहचान है।

देश में मानवता का संचार

समस्त देश में मनुष्यता को अपनाना चाहिए। अगर सभी लोग मानवता के रास्ते पर चलते है तो देश की उन्नति भी होगी। जो व्यक्ति परेशान है उनके दुःख को बांटे, उनकी मदद करे और बीमार लोगो की सेवा करना मानवता की सच्ची निशानी है।

जिन जीवो को खाना नहीं मिलता है, उसके लिए भोजन देना चाहिए। अच्छा बर्ताव और प्रेमभाव समाज को सुन्दर बनाता है। पशु पक्षियों को पिंजरे में बंद नहीं रखना चाहिए। उन्हें भोजन खिलाना चाहिए और बाहर खुले आसमान में छोड़ देना चाहिए।

निष्कर्ष

मनुष्य का कर्त्तव्य है कि वह समाज में सभी लोगो के प्रति मानवता दिखाए। आजकल लोग आत्मीयता और मानवता जैसे भावनाओ से दूर होते जा रहे है। मनुष्य को दूसरो के प्रति दया भाव रखनी चाहिए। तभी एक सकारात्मक जीवन लोग जी सकते है। इंसानियत वही होती है जिसमे मनुष्य खुद के लिए नहीं बल्कि औरों के हित के विषय में सोचते है।


तो यह था मानवता पर निबंध, आशा करता हूं कि मानवता पर हिंदी में लिखा निबंध (Hindi Essay On Humanity) आपको पसंद आया होगा। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा है, तो इस लेख को सभी के साथ शेयर करे।

Sharing is caring!

Leave a Comment