फुटबॉल खेल पर निबंध (Football Essay In Hindi)

आज के इस लेख में हम फुटबॉल पर निबंध (Essay On Football In Hindi) लिखेंगे। फुटबॉल पर लिखा यह निबंध बच्चो (kids) और class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए लिखा गया है।

फुटबॉल पर लिखा हुआ यह निबंध (Essay On Football In Hindi) आप अपने स्कूल या फिर कॉलेज प्रोजेक्ट के लिए इस्तेमाल कर सकते है। आपको हमारे इस वेबसाइट पर और भी कही विषयो पर हिंदी में निबंध मिलेंगे, जिन्हे आप पढ़ सकते है।


फुटबॉल खेल पर निबंध (Football Essay In Hindi)


प्रस्तावना

देश में बहुत से खेल खेले जाते हैं, जिसमें से क्रिकेट, वोलिबोल, बैडमिंटन, आदि है। इसके अतिरिक्त देश में एक बहुत लोकप्रिय खेल खेला जाता है और वह खेल फुटबॉल है। जोकि धीरे-धीरे देश में लोकप्रियता हासिल करता जा रहा है।

यह खेल लोगों को रोमांचित करता है। यह चुनौतीपूर्ण खेल लगता है जो आमतौर से दो टीमों द्वारा खेला जाता है। जिसके अंदर 11-11 खिलाड़ी होते हैं। फुटबॉल खेल को ग्रामीणों द्वारा खेला जाता था, जो कि इटली में रग्बी के नाम से जाना जाता है। वर्तमान के समय में रूस, इटली, जापान, इंडिया, अमेरिका बहुत से देशों द्वारा इस खेल को खेला जाता है। इस खेल को देखने के लिए लाखों लोग स्टेडियम में जाते हैं और इस खेल का आनंद लेते हैं।

फुटबॉल

फुटबॉल का मैच दो टीमों के बीच में खेला जाता है। यह एक आउटडोर खेल होता है। इसके अंदर दोनों फुटबॉल टीम के अंदर 11 खिलाड़ी होते हैं। मैच में कुल खिलाड़ी 22 होते हैं।  इस मैच के अंदर रन नहीं बनाने होते, बल्कि यहां पर गोल बनाने होते हैं और सबसे अधिक गोल बनाने वाली टीम को विजय हासिल होती है।

फुटबॉल का मैच किसी भी तरह के उपकरण द्वारा नहीं खेला जाता, बल्कि यह व्यक्ति द्वारा पैरों से खेला जाता है। इसमें गेंद को ठोकर मार कर विरोधियो के गोल वाले क्षेत्र तक पहुंचाना होता है। इस गेम को बहुत से देशों में सोसर के नाम से जाना जाता है।

फुटबॉल अलग-अलग रूप मे जाना जाता है, जैसा कि फुटबॉल एसोसिएशन, अमेरिकन फुटबॉल, फुटबॉल ऑस्ट्रेलियन, फुटबॉल आदि अलग-अलग देशों द्वारा खेला जाता है। फुटबॉल को अलग-अलग कोड्स के अनुसार जानते हैं।

हालांकि फुटबॉल बहुत से देशों में लोकप्रिय है। इसे देखने के लिए बहुत से लोग जाते हैं। यह धीरे-धीरे लोगों की पसंद बनता जा रहा है। आज देश में बहुत से बेहतरीन फुटबॉल प्लेयर्स है, जिन्होंने अपने फुटबॉल के क्षेत्र में रिकॉर्ड बनाए हैं।

इस खेल को खेलने के लिए बहुत दमखम और जोश और ऊर्जा की आवश्यकता होती है, क्योंकि इसमें फुटबॉल को लात मारते हुए भागना होता है। परंतु बहुत से विद्रोही टीम के खिलाड़ी आपको गिराने की कोशिश करते हैं।

इस मैच में बहुत से खिलाड़ियों को लगने की संभावना रहती है, क्योंकि बॉल को पाने के लिए खिलाड़ी एक दूसरे को धक्का तक दे देते हैं, जिसमें हाथ पांव पर चोट आने की संभावना  रहती है।

फुटबॉल का इतिहास

फुटबॉल का मैच 1 प्राचीन मैच है, जोकि ग्रीक खेल के रूप में जाना जाता है। इस मैच के अंदर खिलाड़ी द्वारा अपने पैर से गेंद को ठोकर मारी जाती है और गोल वाले क्षेत्र तक पहुंचाया जाता है। यह खेल बहुत ही खतरनाक और भद्दा भी है, क्योंकि इसके अंदर पहुंचे खिलाड़ियों को चोट आने की संभावना रहती है।

इस मैच को खेलने के लिए खिलाड़ी एक दूसरे से धक्का-मुक्की तक कर लेते हैं, जिसके कारण खिलाड़ी के गिरने पर हाथ पांव को चोट आ सकती हैं। फुटबॉल का मैच एक सीमा के अंदर खेला जाता है जो आयताकार मैदान होता है। दोनों टीमों के 11-11 खिलाड़ी मैदान में रखे जाते हैं।

इस खेल की उत्पत्ति 12 वीं सदी में हुई थी, जो कि चीन और इंग्लैंड का एक लोकप्रिय खेल बनता गया। धीरे-धीरे इस खेल को खेलने के लिए नियमों को बनाया गया था, ताकि खिलाड़ी द्वारा इस खेल को नियम के साथ खेला जाए। सन 1800 के अंदर यह खेल एक अग्रिण खेल बन गया।

फुटबॉल खेल की उत्पत्ति

फुटबॉल की शुरुआत कई वर्षों पूर्व हो चुकी थी। इसकी उत्पत्ति चीन से हुई थी। इसके अंदर दो टीमों को निर्धारित किया गया। टीम के अंदर 11 खिलाड़ियों को चुना गया। इसके अंदर तय किया गया कि जो अधिक से अधिक गोल बनाएगा वह टीम विजेता साबित होगी।

इसमें एक टीम दूसरी टीम के खिलाफ खेलती है। यह खेल अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिता के अनुसार 90 मिनट की होती है। जिसे दो भागों में बांटा गया है और इन दोनों को 45-45  मिनट में विभाजित किया गया है। फुटबॉल मैच के अंदर खिलाड़ी को समय-समय पर और बीच-बीच में अंतराल दिया जाता है। यह अंतराल 15 मिनट से अधिक का नहीं होता है।

जब खिलाड़ी को 15 मिनट का अंतराल दिया जाता है, तो उसकी जगह दूसरा खिलाड़ी मैदान में उतार दिया जाता है। इस खेल के अंदर गोलकीपर रखे जाते हैं, ताकि वे अपने अपनी टीम के गोल को बचा सके। जिसे क्षेत्र रक्षक के नाम से जाना जाता है।

फुटबॉल के लाभ

देश में बहुत से खेल खेले जाते हैं। यह सभी खेल शरीर के लिए बहुत ही लाभदायक होता है। यह एक तरह का शारीरिक व्यायाम होता है। इस खेल के अंदर खिलाड़ी द्वारा दौड़ा जाता है। जिससे खिलाड़ी का शरीर पूर्ण रूप से खुल जाता है और ऊर्जा से भरा हुआ रहता है।

इस खेल को खेलने से एकाग्रता का स्तर और स्मरण शक्ति आदि में बहुत सुधार आता है। फुटबॉल का खेल मानसिकता और  शारीरिक सुधार के लिए बहुत ही अच्छा खेल है। फुटबॉल का मैच एक मनोरंजन वाला खेल है। इसके अंदर व्यक्ति का मन तरोताजा और शक्ति से भरा रहता है।

फुटबॉल के मैच को खेलने के लिए खिलाड़ियों को पहले बहुत से शारीरिक व्यायाम कराए जाते हैं, जिससे खिलाड़ी खेलने के लिए सक्षम महसूस करता है।

फुटबॉल खेल के नियम

किसी भी खेल को खेलने के लिए उसके नियम का पालन करना जरूरी होता है। सभी खेल नियमों के आधार पर खेले जाते हैं। फुटबॉल मैच क्रिकेट मैच सभी के अंदर अलग-अलग नियम रखे जाते हैं। यह नियम दोनों टीमों को बांधे रखता है, जिससे खेल को सही से और नियमों के आधार पर किया जा सके।

  • इस मैच के अंदर दो स्पर्श लाइन होती है और दो छोटी लाइन होती है। यह एक आयताकार मैदान के अंदर खेला जाता है। फुटबॉल के मैदान को बराबर भागों में बांटा जाता है और लाइन कर दी जाती है।
  • फुटबॉल के मैच के अंदर फुटबॉल का आकार 68 सेंटीमीटर से 70 सेंटीमीटर का होता है। फुटबॉल एक चमड़े की बनी होती है और गोल होती है।
  • फुटबॉल के मैच के अंदर दोनों टीमों के अंदर 11-11 खिलाड़ी होते हैं। इस मैच को शुरू करने के लिए कम से कम 7 खिलाड़ियों की आवश्यकता होती है, यदि खिलाड़ी नही होते हैं तो यह खेल शुरू नहीं किया जा सकता।
  • खेल खेलने के लिए एक रेफरी और दो सहायक रेफरी रखें जाते हैं। जो कि खिलाड़ियों को गलत खेलने पर रोकते हैं और गोल होने और सभी गतिविधियों पर नजर बनाए रखते हैं।
  • फुटबॉल के मैच के अंदर खेल को 90 मिनट का रखा जाता है। खेल को दो भागों में बांट दिया जाता है, जो कि 45  45 मिनट के होते हैं। इसके अंदर फुटबॉल खिलाड़ी को 15 मिनट से ज्यादा का अंतराल नहीं दिया जाता है।
  • फुटबॉल हर समय मैदान के अंदर ही रहती है, जब तक खिलाड़ी मैदान के अंदर है। इस खेल के अंदर गेंद बाहर तब निकाली जाती है, जब रैफरी द्वारा खेल को रोक दिया  जाता है।
  • जब खिलाड़ी द्वारा एक गोल बना लिया जाता है, तो वापिस इस खेल को शुरू गेंद को किक मारकर किया जाता है।
  • इस खेल के अंदर खिलाड़ी द्वारा गेंद को सिर्फ पैरों से ही किक मारना होता है।
  • फुटबॉल को गोल करने के लिए हाथों का इस्तेमाल नहीं कर सकते है।
  • फुटबॉल मैच को खेलने के लिए खिलाड़ी को जूतों और संपूर्ण तोड़ से टीम के कपड़ों का पहने हुए होना जरूरी होता है, जो कि खिलाड़ी को टीम का खिलाड़ी घोषित करता है।

भारत में फुटबॉल का महत्व

भारत में सबसे ज्यादा लोकप्रिय खेल क्रिकेट है, परंतु फुटबॉल ने भी धीरे-धीरे अपनी लोकप्रियता हासिल कर ली है। बहुत से भारतीय लोगों को फुटबॉल मैच खेलना अच्छा लगता है  साथ ही साथ खेल को देखने के लिए वे जाते हैं। फुटबॉल एक आउटडोर गेम होता है।

भारत के अंदर फुटबॉल का खेल सबसे ज्यादा बंगाल में खेला जाता है। यह बंगाल के लोगों का एक लोकप्रिय खेल है और वे इस खेल को बहुत ही महत्व देते हैं। यह खेल जीवन में सफलता प्राप्त करने के लिए लोगों को ज्यादा प्रोत्साहित करता है। इस खेल को खेलने के लिए खिलाड़ियों के अंदर बहुत इच्छा होती है।

फुटबॉल का मैच भारत के लोगों को उत्साहित और रुचिपूर्ण बनाता है। भारत में फुटबॉल का मैच दर्शकों को जिज्ञासु और बहुत से भीड़ को अपनी और आकर्षित करता है। यह मैच 2 टीमों द्वारा खेला जाने वाला है।

यह लोगों को एक दूसरे के प्रति भावना सिखाता है। 90 मिनट का यह लंबा खेल 45-45 मिनट के अंतराल के अंदर खेला जाता है। यह खिलाड़ियों को शारीरिक, मानसिक, सामाजिक,  बौद्धिक रूप से मजबूत बनाए रखता है।

उपसंहार

भारत में आज इस खेल के अंदर बहुत से विद्यार्थी अपना करियर बना सकते हैं। आज भारत में बहुत से लोगों द्वारा फुटबॉल का मैच खेला जाता है। यह व्यक्ति के शरीर को स्वस्थ बनाता है और तंदुरुस्त रखता है।

देश में बहुत से खेल लोकप्रिय हैं। आज बहुत से देशों द्वारा फुटबॉल को महत्व दिया जाने लगा है। आज बहुत से देश के अंदर फुटबॉल के बड़े-बड़े मैच आयोजित किए जाते हैं। यह मैच धीरे-धीरे बहुत से देशों में महत्व पूर्ण खेल जाना जाने लगा है। यह खेल खिलाड़ियों को स्वस्थ बनाए रखता है और मानसिक और शारीरिक तौर पर मजबूत बनाए रखता है।


तो यह था फुटबॉल पर निबंध, आशा करता हूं कि फुटबॉल पर हिंदी में लिखा निबंध (Hindi Essay On Football) आपको पसंद आया होगा। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा है, तो इस लेख को सभी के साथ शेयर करे।

Sharing is caring!

Leave a Comment