डिजिटल इंडिया पर निबंध (Digital India Essay In Hindi)

आज के इस लेख में हम डिजिटल इंडिया पर निबंध (Essay On Digital India In Hindi) लिखेंगे। डिजिटल इंडिया पर लिखा यह निबंध बच्चो (kids) और class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए लिखा गया है।

डिजिटल इंडिया पर लिखा हुआ यह निबंध (Essay On Digital India In Hindi) आप अपने स्कूल या फिर कॉलेज प्रोजेक्ट के लिए इस्तेमाल कर सकते है। आपको हमारे इस वेबसाइट पर और भी कही विषयो पर हिंदी में निबंध मिलेंगे, जिन्हे आप पढ़ सकते है।


डिजिटल इंडिया पर निबंध (Digital India Essay In Hindi)


प्रस्तावना

आज का युग तकनीकी युग है। हर छोटे से लेकर बड़े काम में नई नई तकनीकों का इस्तेमाल करके आप अपना काम सरलता से और तीव्रता से कर सकते हैं। इसलिए हर चीज में डिजिटलाइजेशन को महत्व दिया जा रहा है।

हमारे देश को डिजिटल रूप से शक्तिशाली बनाने के लिए एक अभियान डिजिटल इंडिया की शुरुआत हुई, जिसमें सूचना प्रोद्यौगिकी को बल दिया गया है। आज हम सरकार द्वारा चलाए गए इस महत्वपूर्ण अभियान ” डिजिटल इंडिया ” को समझेंगे।

डिजिटल इंडिया क्या है?

डिजिटल इंडिया असल में हमारी भारत सरकार के द्वारा चलाया गया एक अभियान / योजना है। जिसके अंतर्गत सभी सरकारी और गैरसरकारी संस्थाओ और उनके सारे कार्यों को सरल और नए इलेक्ट्रॉनिक तरीके से देश के नागरिकों के लिए उपलब्ध कराया जा रहा है।

इसके साथ ही गांवों की अर्थव्यवस्था को मजबूत करने के लिए वहां पर भी तीव्र इंटरनेट प्रदान करवाया जा रहा है। ये अभियान हमारे देश को तकनीकी रूप से सशक्त बनाएगा। इस अभियान के तीन महत्वपूर्ण कार्य हैं।

1) भारत को हर क्षेत्र में डिजिटल रूप से आधारित बनाना।

2) यहां के सभी नागरिकों को सारी सुविधाएं इलेक्ट्रॉनिक माध्यम से प्रदान करना।

3) सभी को डिजिटल रूप से साक्षर बनाना।

इस योजना को हमारे प्रधानमंत्री जी द्वारा सबसे ज्यादा प्राथमिकता देने की बात कही गई है। इसके तहत ढाई लाख गांवों में इंटरनेट कनेक्शन प्रदान करवाया जाएगा और पूरे देश में मुफ्त वाईफाई की सुविधा भी दी जाएगी।

ऐसा करने से कागजी कार्यवाही बन्द होकर सभी काम इंटरनेट के माध्यम से हो जाएंगे और कागज की भी बचत होगी। इस से हमारे पर्यावरण को भी काफी लाभ होगा।

डिजिटल इंडिया अभियान की आवश्यकता क्यों?

हमारा भारत देश अन्य किसी देश से कम नहीं है, लेकिन फिर भी इसे विकासशील देश का दर्जा दिया है। कभी आपने सोचा है कि ऐसा क्यों है? हमारे देश की जनसंख्या इतनी ज्यादा है और यहां हर व्यक्ति मेहनतकश है, फिर देश विकासशील ही क्यों है? दूसरे बड़े देशों की तरह विकसित क्यों नहीं।

ऐसा इसलिए क्योंकि हमें मेहनत के साथ साथ स्मार्टवर्क करना भी जरूरी है, तभी हम तरक्की कर पाएंगे। आज हमारे देश में अमेरिका जैसे बड़े देश से भी अधिक इंटरनेट यूजर्स हैं। लेकिन बहुत से लोग इंटरनेट को सिर्फ मनोरंजन के लिए ही उपयोग करते हैं।

इसलिए जरुरत है उन्हें सही राह दिखाने की। जिससे हमारा देश विकसित होने के साथ ही आत्मनिर्भर भी बनेगा।

डिजिटल इंडिया अभियान की शुरुआत

ये अभियान हमारे देश के माननीय श्री नरेन्द्र मोदी जी ने 1 जुलाई 2015 को शुरू किया था। ये अभियान विख्यात उद्योगपतियों जैसे अनिल अंबानी, अजीम प्रेमजी, साइरस मिस्त्री जी के साथ मीटिंग करके बनाया गया।

इसके तहत सारे भारत का डिजिटलाइजेशन करके हर छोटे बड़े शहर और गांव में तकनीकी सुविधाएं उपलब्ध करवाई जाएगी। तथा सभी जरूरी काम डिजिटल पद्धति से ही पूर्ण किए जाएंगे।

इस अभियान के अन्तर्गत तीव्र स्पीड से चलने वाले इंटरनेट की सुविधा भी हर गांव और छोटे कस्बों को पहुंचायी जाएगी। जिससे उनके अधिकतर काम इंटरनेट पर ही हो जाएंगे, उनका समय बचेगा और बार बार सरकारी ऑफिस नहीं जाना पड़ेगा।

इस योजना का जिम्मा मुख्य रूप से संचार एवम् सूचना प्रोद्यगिकी को दिया गया है। सरकार ने आधार कार्ड बनवाकर सारे देशवासियों को अपनी एक पहचान दी और अब उसी आधार कार्ड के नंबर से लिंक करके विभिन्न ऑनलाइन कार्य सुरक्षित रूप में पूरे किए जाएंगे, जो कि एक बड़ी उपलब्धि है।

डिजिटल इंडिया अभियान के मुख्य लक्ष्य

इस अभियान का लक्ष्य भारत को हर क्षेत्र में डिजिटलाइजेशन से जोड़कर शक्तिशाली और विकसित देश बनाना है। इसके अलावा भारत के नागरिकों की जरूरत को देखते हुए उसके अनुसार उन्हें डिजिटल सेवाएं प्रदान करना भी इसका लक्ष्य है। इस अभियान के तहत करीब 18 लाख व्यक्तियों को नौकरी दिलाई जाएगी।

इस अभियान के द्वारा सरकार ये भी चाहती है कि सभी नागरिक डिजिटलाइजेशन को अपनाएं और डिजिटल उपकरणों के उपयोग में दक्षता प्राप्त करें। ताकि वे पैसों का और वस्तुओं का लेन देन, कागजी काम, सरकारी काम और हर प्रकार के सरकारी कामकाज भी इंटरनेट से ही कर पाएं।

डिजिटल इंडिया अभियान के फायदे

हर घर में – अभियान से हर जगह नई तकनीकों का इस्तेमाल किया जाएगा। हर घर में आय और व्ययसाय का लेखा जोखा करने में, शॉपिंग में, सारे महीने से लेकर साल भर के भी खर्च और आय सम्बन्धी अकाउंटिंग करने में डिजिटल इंडिया अभियान बहुत फायदेमंद रहेगा।

इसके अलावा पैसों का ट्रांजिक्शन ऑनलाइन होने के साथ साथ यूआरआई लिंक से सुरक्षित भी किया जाएगा।

डिजिटल इंडिया अभियान विद्यार्थियों के लिए कौनसा स्कूल और कॉलेज चुनना है इसके लिए, जल्दी और उचित मूल्य पर आसानी से अध्ययन के लिए, जरूरी वस्तुएं और कॉपी, किताबें इत्यादि खरीदने के लिए, स्कालरशिप पाने के लिए, ऑनलाइन अध्ययन में और एप्लीकेशंस भेजने में भी बहुत लाभदायक है।

इससे विद्यार्थियों के खातों में स्काॅलरशिप का धन का वितरण प्रभावी रूप से और तेजी से हो सकेगा। नोकरी और रोजगार में – डिजिटल पद्धति से नौकरी पाना और भी सरल हो जायेगा। आप नौकरी के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकते हैं, इसके साथ ही मनचाही फुल टाइम या पार्ट टाइम जॉब की तलाश भी कर सकते हैं।

कई जगह पर ऑनलाइन इंटरव्यू भी रखा जाता है और जॉब से संबंधित अपने सारे डॉक्युमेंट्स, सर्टिफिकेट्स आदि भी ऑनलाइन जमा करवा सकते हैं।

व्यापार और कुटीर उद्योगों में- डिजिटल उपकरणों और पद्धति के उपयोग से व्यापार में आने वाली लेन देन और भुगतान सम्बन्धी परेशानियां दूर हो जाएंगी। ऑनलाइन ऑर्डर लेकर डिजिटल बिल भी भेजे जा सकते हैं, जिससे व्यापारी और ग्राहक दोनों का समय बचेगा। इससे धोखाधड़ी और फर्जीवाड़ा भी खत्म होगा।

जो लोग गृह उद्योग चलाते हैं उनके लिए तो डिजिटलाइजेशन किसी वरदान से कम नहीं है। क्योंकि उन्हें अपने माल के वितरण और प्रचार प्रसार में परेशानी आती है। परन्तु इस पद्धति से ये सभी कार्य आसानी से ऑनलाइन ही हो जायेंगे।

अन्य कार्यों में और कई तरह के सरकारी कामकाज में इस तरीके से बहुत सरलता होती है और धोखेबाज दलाल जो काम करवाने के बहुत से पैसे लेते हैं उनसे छुटकारा मिल जाता है। विभिन्न कागजात और डॉक्युमेंट्स सुरक्षित रखे जा सकते हैं।

डिजिटल हस्ताक्षर और मोबाइल बैंकिंग की सेवाएं भी बहुत फायदेमंद हैं। इसके अलावा हर जगह ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन होने से घर बैठे पंजीकरण हो जायेगा।

डिजिटल इंडिया अभियान के 9 स्तंभ

  1.  ब्रॉडबैंड हाईवे – इसके अंतर्गत करीब ढाई लाख पंचायतों को ब्रॉड बैंड की सुविधा दी जाएगी, ताकि सिर्फ शहर ही नहीं बल्कि हर गांव भी इस अभियान को अपना सके।
  2.  मोबाइल कनेक्टिविटी के लिए सार्वभौमिक पहुँच – इसके तहत सभी जगह पर जहां नेटवर्क प्रॉब्लम है वहां पर नए नेटवर्क टावर लगवाए जाएंगे, जिससे किसी को भी इंटरनेट कनेक्शन से संबंधित असुविधा ना हो।
  3.  पब्लिक इंटरनेट एक्सेस कार्यक्रम- जहां पर भी सार्वजनिक सुविधाएं दी जाती हैं जैसे की बैंक, डाक विभाग, जन सेवा केन्द्र इत्यादि में तीव्र स्पीड वाला इंटरनेट कनेक्शन प्रदान करना।
  4.  ई-गवर्नेंस प्रौद्योगिकी के माध्यम से सरकार में सुधार- जितने भी सरकारी कामकाज के कार्यालय हैं उनमें ज्यादातर काम ऑनलाइन किया जाएगा और लेन देन की प्रोसेस को भी ऑनलाइन ही किया जाएगा।
  5.  ई-क्रांति सेवाओं की इलेक्ट्रानिक डिलीवरी- देश में हर जगह पर इलेक्ट्रॉनिक और संचार प्रौद्योगिकी को फैला देना और स्वास्थ्य, शिक्षा, उद्योग आदि हर क्षेत्र में एक क्रांति की तरह इसका प्रसार करना।
  6.  सभी के लिए सूचना- कोई भी सरकारी स्कीम हो या फिर प्राइवेट स्कीम हर स्कीम की सारी जानकारी इनकी ऑनलाइन वेबसाइट्स के द्वारा से दी जाएगी और इसके साथ ही एप्लिकेशन प्रोसेस भी ऑनलाइन ही रखा जाएगा।
  7.  इलेक्ट्रॉनिक्स विनिर्माण- पहले हमारे देश में अधिकतर इलेक्ट्रॉनिक उपकरण विदेशों से मंगवाए जाते थे, लेकिन अब हमारे यहां ही इन उपकरणों का निर्माण किया जा रहा है। जिससे हमें बहुत फायदा होगा और साथ ही कई लोगों को जीवन निर्वाह के लिए काम भी मिलेगा।
  8.  नौकरियों के लिए आईटी- देश में कई बेरोजगार इंजीनियर हैं, उन्हें अच्छी नौकरी दिलाने के लिए आईटी को बढ़ावा दिया जा रहा है और बड़ी आईटी कंपनियां अपनी ब्रांच छोटी जगहों पर भी संचालित कर रही हैं। इससे कई लोगों को नौकरी मिलेगी और साथ ही टेक्नोलॉजी को प्रोत्साहन भी मिलेगा।
  9.  अर्ली हार्वेस्ट कार्यक्रम- इसके तहत केंद्र सरकार देश के कई ऑफिसों में फिंगरप्रिंट लेकर काम करती हैं। ऐसे सॉफ्टवेयर भी बनाए जा रहे हैं, जिससे कामकाज में आसानी होगी।

डिजिटल इंडिया के दौरान इन एप्लीकेशंस की भी शुरुआत हुई –

1) मायगॉव मोबाइल एप्लीकेशन

ये एप्लिकेशन सारे नागरिकों के लिए शुरू की गई है, इसके अंतर्गत सभी लोग अपने विचार और सुझाव सभी से बांट सकते हैं। इसके अलावा वे किसी भी समस्या के लिए अपने सुझाव दे सकते हैं।

2) स्वच्छ भारत अभियान एप्लीकेशन

इस एप्लिकेशन को सभी नागरिकों को स्वच्छता को लेकर जागरूक बनाने के लिए शुरू किया गया है। इसमें स्वच्छता अभियान के लिए जो विभिन्न कार्यक्रम संचालित किए जाते हैं, उनकी भी पूरी जानकारी दी गई है।

उपसंहार

इस अभियान को सफल बनाने के लिए कई करोड़ रुपए खर्च हो गए हैं। अतः हमारा भी फ़र्ज़ बनता है कि हम इसकी सफलता में सहयोग करते रहे, ताकि हमारा देश तरक्की के सीढ़ियों को पार कर सकें और हर व्यक्ति डिजिटलाइजेशन से जुड़े।

हमें अशिक्षित और पिछड़े लोगों को डिजिटल प्रक्रिया की जानकारी देने में उनकी मदद करनी होगी और ऐसे लोगों को ज्यादा से ज्यादा इस अभियान से जोड़ना होगा। ताकि उनके साथ हो रहा अन्याय और धोखाधड़ी समाप्त हो और वे सभी देश के विकास में सहायक बन पाएं।


इन्हे भी पढ़े :-

तो यह था डिजिटल इंडिया पर निबंध, आशा करता हूं कि डिजिटल इंडिया पर हिंदी में लिखा निबंध (Hindi Essay On Digital India) आपको पसंद आया होगा। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा है, तो इस लेख को सभी के साथ शेयर करे।

Sharing is caring!

Leave a Comment