10 Lines On Aryabhatta In Hindi And English Language

आज हम आर्यभट्ट पर हिंदी और इंग्लिश में 10 पंक्तिया (10 Lines on Aryabhatta in Hindi and English) लिखेंगे। दोस्तों यह 10 पॉइंट class 1, 2, 3, 4, 5, 6, 7, 8, 9, 10, 11, 12 और कॉलेज के विद्यार्थियों के लिए लिखे गए है।

10 Lines On Aryabhatta In Hindi


  1. आर्यभट्ट का जन्म सर्वप्रथम 467 ईस्वी मे पाटिलपुत्र के कुसुमपूर मे हुआ था, आज पाटिलपुत्र को पटना के नाम से जाना जाता है।
  2. आर्यभट्ट ने नालंदा विश्वविद्यालय से उनकी शिक्षा ग्रहण की थी।
  3. आर्यभट्ट वे व्यक्ति है जिन्होंने शून्य (0) का आविष्कार किया।
  4. आर्यभट्ट ने कई अनगिनत गणित तथा विज्ञान के क्षेत्र मे महत्वपूर्ण अविष्कार और खोज किये है।
  5. आर्यभट्ट के द्वारा खोजे गये गणित के कुछ महत्वपूर्ण अविष्कार स्थानीय मान प्रणाली, पाई का मान, त्रिकोमितीय फलन, बीज गणितीय सर्वसमिका आदि है।
  6. आर्यभट्ट द्वारा खोजे गए पाई का उपयोग वृत्त का क्षेत्रफल और परिधि ज्ञात करने के लिए किया जाता है।
  7. आर्यभट्ट एक गणितज्ञ होने के साथ ही एक खगोलशास्त्री भी थे।
  8. दशमलव प्रणाली का आविष्कार भी आर्यभट्ट ने किया था।
  9. आर्यभट्ट ने आर्यभट्टीय मे 121 श्लोक लिखें है, जिसको 4 भागो मे विभाजित किया गया है, जिसमे गणितपाद मे 33 श्लोक, गीतिकापाद मे 13 श्लोक, गोलपाद मे 50 श्लोक और कालक्रियापाद मे 25 श्लोक लिखें है।
  10. आर्यभट्ट ने आर्यभट्टीय नामक ज्योतिष ग्रंथ भी लिखा है, जिसमे उन्होंने घनमूल, वर्गमूल और समानतर श्रेणी और अन्य कई प्रकार के समीकरण का वर्णन किया है।

5 Lines On Aryabhatta In Hindi


  1. जब आर्यभट्ट्ट के सभी सिद्धांतो की जांच हुयी तो उनके सिद्धांत एक दम सटीक थे, आज हम उन्ही के सिद्धांत की मदद से गणित के सवाल हल कर पा रहे है।
  2. आर्यभट्ट ने सबसे पहले डायोफेंटाइन समीकरण को हल किया था।
  3. 24 वर्ष की उम्र में आर्यभट्ट ने आर्यभटीय और आर्य-सिद्धांत यह दो किताबें लिखीं थी।
  4. आर्यभट्ट का विज्ञान और गणित के क्षेत्र में बहुत ही महत्वपूर्ण योगदान रहा है।
  5. आर्यभट्ट की मृत्यु 550 ईस्वी में हुई थी।

10 Lines On Aryabhatta In English


  1. Aryabhatta was first born in 467 AD in Kusumpur of Patilputra, today Patilputra is known as Patna.
  2. Aryabhatta received his education from Nalanda University.
  3. Aryabhatta is the person who invented zero (0).
  4. Aryabhatta has made many important inventions and discoveries in the field of mathematics and science.
  5. Some important inventions of mathematics discovered by Aryabhata are place value system, value of pi, trigonometric function, seed mathematical identities etc.
  6. Pi, discovered by Aryabhata, is used to find the area and circumference of a circle.
  7. Aryabhata was a mathematician as well as an astronomer.
  8. The decimal system was also invented by Aryabhata.
  9. Aryabhata has written 121 verses in Aryabhatiya, which is divided into 4 parts, in which Ganitapad has 33 verses, Geetikapad has 13 verses, Golpad has 50 verses and Kalkriyapad has 25 verses.
  10. Aryabhatta has also written an astrological treatise called Aryabhatiya, in which he has described cube root, square root and equivalent series and many other types of equations.

5 Lines On Aryabhatta In English


  1. When all the principles of Aryabhatta were investigated, then his principles were absolutely correct, today we are able to solve the questions of mathematics with the help of his principle.
  2. Aryabhata was the first to solve the Diophantine equation.
  3. At the age of 24, Aryabhata wrote two books, Aryabhatiya and Arya-siddhant.
  4. Aryabhatta has made a very important contribution in the field of science and mathematics.
  5. Aryabhatta died in 550 AD.

इन्हे भी पढ़े :-

तो यह थे वह 10 पंक्तिया आर्यभट्ट के बारे में। आशा करता हूं कि आर्यभट्ट पर हिंदी और इंग्लिश में 10 पंक्तिया (10 Lines On Aryabhatta In Hindi And English) आपको पसंद आयी होगी। अगर आपको यह लेख अच्छा लगा है, तो इस लेख को सभी के साथ शेयर करे।

Sharing is caring!